grasshopper attack

यूपी में बीते कई दिनों से हमलावर टिड्डी दल से निपटने के लिए अब प्रदेश के गन्ना विभाग ने “प्रीवेंशन इज बेटर देन क्योर” के सिद्धांत को अपनाया है।

जिले में आज शाम कृषि विज्ञान केंद्र सोहना सिद्धार्थनगर के गांव सोहना नत्थरदेवरिया कटरियाबाबू बूढ़हूं के आसपास टिड्डियों के दल को देखा गया। जिसको पादप...

बीते कुछ समय से उत्तर प्रदेश के तमाम जिलों में टिड्डी दल आने का शोर सुनाई दे रहा था। जिसके चलते जिला प्रशासन से सरकार भी चिंतित है। साथ ही तमाम जिलों...

बीते कई दिनों से जनपद में टिड्डी दल आने का शोर सुनाई दे रहा था। जिसके चलते जिला प्रशासन द्वारा कई बैठकों को करते हुए अपनी तैयारियां भी पूर्ण कर ली गई थी...

पाकिस्तान से आने वाले टिड्डी दल ने पूर्वान्चल के आसमान में डेरा डाल दिया है। गुरुवार को वाराणसी, चंदौली, ग़ाज़ीपुर, भदोही सहित आधा दर्जन जिलों में टिड्डियों को देखा गया...

नगर पंचायतों अग्निशमन गेल एनटीपीसी के पास लगभग 10 से अधिक बड़े गाड़ी युक्त स्प्रेयर हैं साथ ही साथ जनपद में 30 से अधिक पानी के टैंकर हैं जिनका उपयोग दवाई के छिड़काव में किया जाएगा। कृषि विभाग ने 100 लीटर दवा का स्टाक किया है जिसका आवश्यकता पड़ने पर उपयोग किया जा सकेगा।

टिड्डी दल ने उत्तर प्रदेश में भी दस्तक दे दी है। बुंदेलखंड के कुछ जिलों में टिड्डी दल की आमद के साथ ही राज्य के अन्य जिलों को अलर्ट कर दिया गया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि टिड्डी दल के प्रकोप को ध्यान में रखते हुए बचाव के सभी प्रबन्ध किए जाएं तथा लोगों को इस सम्बन्ध में जागरूक भी किया जाए।

पाकिस्तान वैसे तो अपनी नापाक हरकतों के लिए प्रसिध्द है, ऐसे में पाकिस्तान से आए टिड्डियों के दल ने देश की परेशानी को और बढ़ा दिया है। वहीं राजधानी जयपुर में टिड्डियों के हमले ने इस साल लाखों हेक्टेयर में फैली फसलों को बर्बाद कर दिया है।

फसल, सब्जियों व खेतों को नुकसान से बचाया जा सके, इसके लिए किसान भाई भी सतर्क रहें और अपने खेतों की रखवाली करें और यदि टिड्डी दल आपके खेत को नुकसान पहुंचाता है, तो उससे बचने के लिए ध्वनि का इस्तेमाल करें।