hanuman

हनुमानजी की भक्ति सबसे सरल और जल्दी फल प्रदान करने वाली मानी जाती  है। इनकी  भक्ति हमें भूत-प्रेत जैसी न दिखने वाली आपदाओं से बचाती है, वहीं यह ग्रह-नक्षत्रों के बुरे प्रभाव से भी बचाती है। जो व्यक्ति‍ प्रतिदिन हनुमान चालीसा पढ़ता है उसके साथ कभी भी घटना-दुर्घटना नहीं होती।

कोरोना महामारी से निपटने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन लगा हुआ है। लॉकडाउन के बीच सोशल मीडिया पर अफवाहों का भी बाजार गर्म है। इसके साथ ही देश के कई हिस्सों से इसके उल्लंघन की की खबरें आती रहती हैं।

लॉकडाउन के बीच करीब 33 साल बाद पौराणिक धारावाहिक रामायण की दूरदर्शन पर दोबारा वापसी हो गई है। एक समय का सुपरहिट-डुपरहिट रहा ये शो इस दौर में भी जबरदस्त हिट साबित हो रहा है। खुद भगवान राम का किरदार निभाने वाले अभिनेता अरुण गोविल और लक्ष्‍मण की भूमिका निभाने वाले सुनील लहरी भी दर्शकों का आभार जताते देखे गए थे।

बजरंग बली से जुड़ी कहानियों और किस्सों को जानने में लोगों की दिलचस्पी  हमेशा बनी रहती है। इसके प्रमाण मिलने से लोगों की गहरी आस्था जुड़ जाती है। हनुमान जी और पाताललोक से जुड़ें ऐसे ही कुछ साक्ष्य हमें इंडिया से 1000किमी दूर मध्य अमेरिका के देश होंडुरस में मिले हैं।

भारतीय प्रतिनिधिमंडल को मुस्लिम देश इराक में दो हजार ईसा पूर्व के भित्तिचित्र मिले हैं। इस बारे में अयोध्या शोध संस्थान ने दावा किया है कि यह भगवान राम की एक छवि है। यह भित्तिचित्र दरबंद-ई-बेलुला चट्टान में बना मिला है।

बड़े मंगल पर शहर के ट्रैफिक रूट में भी बदलाव किया गया है। इस दौरान हर मंगलवार को ट्रैफिक डायवर्जन होगा, जिससे श्रद्धालुओं और मंदिर दर्शन करने वालों को किसी तरह की कोई समस्या न हो। बड़े मंगल को विभिन्न हनुमान मंदिरों में विशाल मेले भी लगते हैं। श्रद्धालुओं की भीड़ भी उमड़ती है। 

भगवान हनुमान की जाति पर पिछले कुछ समय से बहस छिड़ी हुई है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने पहले उन्हें दलित बताया था, जिसके बाद हनुमान जी की जाति बताने वाला सिलसिला शुरू हो गया।

मुरादाबाद में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के खिलाफ मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में शिकायतकर्ता वकील त्रिलोक चंद्र दिवाकर ने परिवाद दायर किया है।

जयपुर:भगवान श्रीराम के वनवास की घटना के बारे में तो सभी जानते है कि उन्हें किस तरह वनवास हुआ और इसमें लक्ष्मण ने उनका साथ दिया था। लेकिन क्या आप जानते है कि रावण का वध करने के बाद जब राम, सीता और लक्ष्मण अयोध्या लौटे, तो सरयु नदी के तट पर माता सीता ने …

जाैनपुर: खुटहन थाना क्षेत्र के संजरपुर गांव में एक दिन पहले भूमि में मिली बजरंग बली की मूर्ति वाले स्थान पर मंदिर बनाने काे लेकर गांव के हिंदू आैर मुस्लिम आमने-सामने हाे गए हैं। सरकारी भूमि हाेने के कारण प्रशासन शिकायत मिलने पर एेसा नहीं हाेने दे रहा है। इसे लेकर दूसरे दिन भी गांव …