hathras

अधेड़ अपनी बेटी की ससुराल में घूमने के लिए आया हुआ था। पहले तो उसने यहां आकर खूब शराब पी और फिर तीसरी शादी करने की बात कहने लगा। जब दामाद ने अपने ससुर का यह रूप देखा तो दंग रह गया।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2002 से 2006 तक अनुसूचित जाति के सैकड़ों छात्रों की छात्रवृत्ति हड़पने के मामले में वर्ष 2006 में मुकदमा दर्ज कराया गया था।

दरअसल ये मामला हसायन विकास खंड के गांव बाण अब्दुल्लहईपुर का है। यहां के ग्राम प्रधान पर अनियमितताओं का आरोप लगाते हुए ग्राम पंचायत के कुछ लोगों ने डीएम से कम्प्लेन की थी।

उत्तर प्रदेश में अपराधियों को सजा दिलाने का कार्य अब तेज गति से किया जा रहा है। ऐसे ही हाथरस के एक मामले राज्य में सरकार ने दोषी को दंड दिलाने का काम किया है।

भाई को घटनास्थल पर ले जाया गया है। वहां पर सीबीआई की टीम पहले से मौजूद है। सीबीआई के अधिकारी पीड़िता के परिवार वालों के बयानों के जरिये इस केस को समझने की कोशिश कर रहे हैं। जरूरत पड़ने पर सीन का रिक्रिएशन भी कराया जा सकता है।

हाथरस, बलरामपुर, झांसी में बेटियों के साथ गैंगरेप के मामलों से आहत उत्तर प्रदेश में मंगलवार का सूरज अपने साथ अमंगल लेकर आया। गोंडा में तीन नाबालिग लड़कियों पर रात में किसी ने सोते समय तेजाब डाल दिया।

हाथरस में मानव तस्करी का खुलासा हुआ है। आरोपी काम दिलाने का झांसा देकर 12 नाबालिग लड़कियों को हाथरस लाया और यहां बस स्टैंड के पास एक कमरे में तीन दिनों तक बंधक बनाकर रखा।

हाल ही में उत्तर प्रदेश के हाथरस में लड़की के साथ गैंगरेप का मामला सामने आने के बाद एक बार फिर महिलाओं की सुरक्षा पर सवाल खड़े होने लगे हैं। देश में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर मामला गर्म हो गया हैं।

संदीप ने लिखा है कि मैंने आज तक पीड़िता को कभी हाथ तक नहीं लगाया दुष्कर्म की बात तो दूर की बात है। पत्र में ये भी लिखा है कि इस मामले में हम चारों लोग एकदम बेकसूर हैं।