health ministry

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि कोरोना वायरस के प्रतिदिन के ग्रोथ रेट में लगातार गिरावट आ रही है। आज यानि मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय, गृह मंत्रालय और आईसीएमआर ने संयुक्त प्रेस वार्ता में कहा कि देश में कोरोना की स्थिति पर नजर डाला तो कोरोना जांच संबंधी कई बातें सामने आई है।

देश में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमितों की संख्या के बावजूद स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि देश में कोरोना रिकवरी रेट 49.21 फीसदी हो गया है।

लेकिन केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय का मानना है कि लॉकडाउन की वजह से देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या कम है। वरना ये और ज्यादा होती।

स्वास्थ्य स्वास्थ्य मंत्रालय की इस तैयारी का मकसद पूरे देश में कोरोना के संक्रमण के स्तर का पता लगाना है। साथ ही यह पता लगाने की कोशिश भी की जाएगी कि यह संक्रमण किस तरीके से फैल रहा है।

जिसमें सबसे कम लक्षण वाले मरीजों को कोविड केयर सेंटर में रखा जाएगा। उसके बाद दूसरे वे जिनमें कोरोना के तीन या चार लक्षण दिखाई देते हैं।

तेजी से बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने हॉस्पिटल में भर्ती कोरोना वायरस के मरीजों के डिस्चार्ज नियमों में कुछ बदलाव किया है।

मंत्रालय ने प्रेस को संबोधित करते हुए कहा कि अब विदेशों से भारतीय नागरिकों को लाने का काम शुरू हो गया है। वहीं, स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि हर तीन में से एक मरीज ठीक हो रहा है और ये आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है।