health

कहा जाता है कि जिस घर में बच्चे होते हैं उसकी रौनक दोगुनी हो जाती है।  उन्हें खेलता देख किसी के भी चेहरे पर मुस्कान आ सकती है। बच्चे वो ही करते हैं जो अक्सर अपने बड़ों को करते देखते हैं। वही बोलने की कोशिश करते हैं, जो वो सुनते हैं। बच्चों को दौड़ना, खेलना, हरदम एक्टिव रहना अच्छा लगता है।

जनपद के तहसील मड़ियाहू क्षेत्र स्थित ग्राम दामोदरा निवासी कोरोना वायरस से पीड़ित मनोज कुमार सिंह इस समय स्वास्थ्य विभाग की टीम निगरानी में रखा गया है।

दुनिया भर के देशों में कोरोना वायरस से लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं, जिस वजह से कई हजार लोगों ने अपनी जान गवां दी हैं। इसको देखते हुए के बढ़ते मामलों के बीच डॉक्टर और विशेषज्ञ शुरुआत से ही साफ-सफाई और हाइजीन मेंटेन करने की सलाह दे रहे हैं।

ऐसा हमेशा देखा जाता है कि ढलती उम्र के साथ महिलाओं को बहुत सी की बीमारियां होने लगती है। महिलाओं की छोटी-बड़ी बीमारियों से उनका स्वास्थ खराब हो जाता है।

कोरोना वायरस दुनियाभर के देशों में फैल चुका है और भारत में अभी तक इसके कई मामले सामने आ चुके हैं इसमें इटली के 16 पर्यटक भी शामिल हैं । चीन में इस वायरस की वजह से अभी तक तीन हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। इसके अलावा वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या एक लाख पार कर गई है।

डायलिसिस के मरीजों में बार-बार खून चढ़ाना पढ़ता है। इसमें लापरवाही से मरीज एचसीवी पॉजीटिव हो जाता है। डायलोजर की स्क्रिनिंग को रीप्रोसेसिंग मशीन लगती है जिससे पता चलता है कि कितने मरीजों में प्रयोग किया गया है।

बच्चों के बेसिक ग्रोथ के लिए जन्म के बाद का पहला साल बहुत महत्वपूर्ण होता है। इसी टाइम में बच्चे का शारीरिक विकास जोरो पर होता है। डॉक्टरों की मानें तो छह महीने तक बच्चे को मां के दूध के अलावा कुछ भी खाने को नहीं देना चाहिए।

कोई भी रिश्ता हो वो सिर्फ प्यार और सौहार्द से ही टिकता है। इसलिए रिश्ते में प्यार और खुशी का मिलना बहुत जरूरी होता है। सुना होगा, किसी को जादू की झप्पी देने से सारी कड़वाहट दूर हो जाती है। इसका सबसे आसान तरीका होता है हग। हग करके लोग पार्टनर या किसी खास को खुश तो करते है। रि

आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस (एआई) के मार्फत स्तन कैंसर को पहचानने की नई तकनीकी का इजाद कर लिया गया है। भारत में होने वाले इस आम कैंसर को एआई और मशीन...

हर मौके पर खाए जाने वाले व्यंजनों को वैज्ञानिक महत्व के आधार पर तैयार किया जाता है। मौसम के हिसाब से पर्व बनाए गए हैं। इन मौसमों के दौरान ताप और शीत को देखते हुए सुपाच्य भोजन की व्यवस्था की गई है।