heavy rain

मौसम विभाग के अनुसार, लो प्रेशर वाला एक सिस्टम 10 दिनों तक एक्टिव होता है। इसके लगातार बनने की वजह से अगस्त और सितंबर महीने में बारिश हुई। कई ऐसे इलाके जहां कम बारिश हुई थी, सीजन के खत्म होते-होते वहां भारी बारिश हो चुकी

दोपहर बाद कड़ी सुरक्षा के बीच इन बंदियों को बसों से आजमगढ़ जेल भेजने का काम शुरू किया गया। देर रात तक यह सिलसिला चलता रहा। जिला प्रशासन का कहना है कि जलजमाव कम नहीं होने के चलते बंदियो को शिफ्ट करने का फैसला लिया गया है।

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) की टीमों ने राहत कार्य शुरू कर दिया है। बिहार सरकार ने भारतीय वायुसेना से पटना के बाढ़ प्रभावित इलाकों में फंसे लोगों को निकालने और खाने के पैकेट्स व दवाइयां पहुंचाने के लिए दो हेलिकॉप्टरों की मांग भी की है।

यह दर्दनाक घटना जलालपुर थाना क्षेत्र के चकौरा गांव में रविवार की सुबह उस समय हुई जब गा़व के संदीप राजभर उम्र 28 वर्ष पुत्र पुद्दन अपनी पत्नी बंदना के साथ अपने खपरैल वाले मकान में सो रहे थे। इसी बीच बगल में स्थित नन्दलाल के मकान की मिट्टी की दीवार लगातार हो रही बारिश के कारण समसमा कर उनकी दीवाल पर जा गिरी।

मौसम विभाग ने मध्य और पूर्वी उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में अगले 24 घंटों के दरमियान भारी बारिश होने की संभावना जताई है।

बिहार के अधिकतर हिस्सों में हो रही लगातार भीषण बारिश ने सामान्य जनजीवन को बुरी तरह प्रभावित कर दिया है। इसके चलते खासतौर पर रेल यातायात, स्वास्थ्य सुविधाएं और स्कूल प्रभावित हुए हैं।

बिहार में भीषण बारिश की वजह से सभी लोग काफी परेशान हैं। बहुत सी जगह पर शनिवार को 200 मिलीमीटर से अधिक बारिश हुई। बारिश की तबाही के कारण रेल सेवा पर भी इसका असर पड़ा है। रेलवे ने कई ट्रेनों को रद्द कर दिया है।

यूपी बिहार समेत पूर्वी भारत में भारी बारिश हो रही है जिसने ताबही मचाकर रख दी है। देश के कई हिस्सों में बारिश आम लोगों का जीवन अस्त व्यस्त हो गया है। मौसम विभाग ने बिहार के तमाम जिलों में भारी बारिश की संभावना जाहिर की है। प्रशासन को पूरी तरह से अलर्ट रहने के लिए कहा गया है।

महाराष्ट्र के पुणे में बारिश ने तबाही मचाई हुई है, जिसकी वजह से लोगों को काफी परेशानी हो रही है। पुणे में भारिश की वजह से अब तक कुल 21 लोगों की मौत हो गयी है, जबकि 5 लोग गायब हैं।

मौसम विभाग की ओर से प्रदेश में 18 जनपदों में भारी वर्षा होने की चेतावनी दी गयी है। इसके मद्देनजर राहत विभाग ने इन जिले के जिलाधिकारियों को पत्र भेजकर वर्षा से निपटने व व्यापक व्यवस्था कराने के निर्देश दिये हैं।