himachal pradesh

अब तक देश के राज्य भारी बारिश और बाढ़ से जूझ रहे थे। कई इलाकों में बाढ़ की वजह से कई मौतें हो गईं, जबकि कई लोग अभी तक लापता हैं। अभी भी कई राज्यों में राहत कार्य जारी है। एनडीआरएफ की टीमें बचाव कार्य में जुटी हुई हैं।

इस गांव में रिवाज थोड़े दूसरे हैं। यह गांव अपनी विरासत का पालन बखूबी कर रहा है लेकिन यहां पुलिस का आने पर प्रतिबंध लगा हुआ है। यही नहीं, यहां पर तो शराब, सिगरेट और चमड़े का सामान लेकर आना भी सख्त माना है।

रिमझिम बारिश का मौसम वैसे तो अपने अंतिम चरण में है लेकिन इसका असर कम नहीं हुआ है। कई राज्यों में तो हाल यह है कि बारिश थमने का ही नाम नहीं ले रही है। भारतीय मौसम विभाग के अनुसार, आने वाले 48 घंटों में 10 से ज्यादा ऐसे राज्य है जहां जबरदस्त बारिश के तेज हवाएं भी चलेंगी।

हिमाचल प्रदेश बॉर्डर पर अभी-अभी 5.0 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। बता दें इससे पहले असम में बीती 8 सितम्बर की सुबह भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। असम में कार्बी आंगलोंग के इलाके में सुबह 7 बजकर 3 मिनट पर भूकंप आया था।

हिमाचल प्रदेश के रहस्यमयी किले के बारे में। हिमाचल प्रदेश का यह किला हमीरपुर जिले में है, जहाँ अरबों रूपयों का खजाना छुपा हुआ है। पर उसे कोई खोज नहीं सका। अरबों के इस खजाने वाले किले को सुजानपुर के किले के नाम से जाना जाता है।

मनाली के बौद्ध मठ बहुत लोकप्रिय हैं। कुल्लू घाटी के सर्वाधिक बौद्ध शरणार्थी यहां बसे हुए हैं। यहां का गोधन थेकचोकलिंग मठ काफी प्रसिद्ध है। साल 1969 में इस मठ को तिब्बती शरणार्थियों ने बनवाया था।

हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर में ट्रक पलटने से 21 तीर्थयात्री बुरी तरह से जख्मी हो गए। बताया जा रहा है कि पंजाब से एक ट्रक में लगभग 40 यात्री नैना देवी मंदिर में पूजा करने आए थे।

हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले के कुम्हारहट्टी-नाहन मार्ग पर एक बहुमंजिला इमारत गिर गई है। बिल्डिंग के नीचे सेना के करीब 35 जवान मौजूद थे, जिनमें से 10 को बचा लिया गया है।

हिमाचल प्रदेश में एक बड़ा हादसा हो गया है। प्रदेश के कुल्लू में एक बस खाई में गिर गई है। इस हादसे में 25 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 30 लोगों के घायल होने की खबर है। ये घटना कुल्लू के बंजार में हुई है।

लोकसभा चुनाव में हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस के अब तक के सबसे खराब प्रदर्शन के बाद पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह और पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुखविंदर सुक्खू के बीच मतभेद पैदा हो गए हैं।