himachal pradesh

शिमला : बिहार और यूपी विधानसभा चुनावों में भाजपा ने पीएम नरेंद्र मोदी को अपना चेहरा बना मैदान में उतार दिया। इसका फायदा ये हुआ कि जहां यूपी में पार्टी को प्रचंड बहुमत मिला। वहीं बिहार में भी उसने अकेले दम पर झंडे गाड़ दिए। ये अलग बात है कि सरकार में अब वापसी हुई। …

शिमला : हिमाचल में किस पार्टी को सत्ता का सुख नसीब होगा ये यदि कोई तय कर सकता है तो वो है जिला कांगड़ा। पिछले 20 वर्षो में कांगड़ा ने जिस भी दल को बहुमत दिया सूबे सरकार उसी की बनी। 1998 से 2012 तक हुए विधानसभा चुनाव में ऐसा ही होता रहा है। कांगड़ा …

शिमला। पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल जैसे कद्दावर नेता के होते हुए भी बीजेपी ने इस विधान सभा चुनाव में अपना मुख्यमंत्री चेहरा किसी को घोषित नहीं किया है। इसे लेकर पार्टी और सूबे में कई तरह की चर्चा है बीजेपी आलाकमान भी इस बात को समझ रहा है। शायद इसीलिए केंद्रीय मंत्री जगत प्रकाश नड्डा …

शिमला। हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव में नाम वापसी के बाद अब 348 उम्मीदवार मैदान में हैं। ये रही लिस्ट देखिए किस राजनीतिक दल से कौन ठोक रहा है ताल। चंबा 1 चुराह (अ.जा.) देसराज आजाद, सुरेन्द्र भारद्वाज कांग्रेस, हंसराज भाजपा, नन्द कुमार समाजवादी पार्टी 2 भरमौर (अ.जा.) जिया लाल भाजपा, ठाकुर सिंह भरमौरी कांग्रेस, ललित …

शिमला : बाकी राज्यों की तरह हिमाचल में भी बीजेपी और कांग्रेस अपनों की बगावत से परेशान है। ये वो हैं जो कभी पार्टी के लिए कुछ भी करने का दावा ठोंका करते थे। लेकिन टिकट क्या कटा पार्टी के ही पलीता लगाने में लगे हुए हैं। नामांकन वापसी के साथ ही विधानसभा चुनाव की …

शिमला : देश के इस छोटे से पहाड़ी राज्य में सिर्फ 68 विधानसभा सीटें हैं। चुनावी शंखनाद के बाद दलों ने कमर कस ली है। साम दाम दंड भेद अपना सभी मैदान मारना चाहते हैं। अभी जो तस्वीर सामने है, उसे देख हिमाचल वाले कहने लगे हैं कि पता ही नहीं चल रहा कौन किसके …

शिमला। आज हमारी कल तुम्हारी, देखो बच्चों बारी-बारी। हिमाचल प्रदेश के चुनावी नतीजे कुछ ऐसी ही पटकथा बीते 40 साल से लिखते चले आ रहे हैं। अगर कभी जनता ने यहां राजनीतिक दलों – भाजपा और कांग्रेस में से किसी एक को स्पष्ट बहुमत का जनादेश नहीं सुनाया तब भले ही यह फार्मूला उलट गया …

हिमाचल प्रदेश के मंडी क्षेत्र में शुक्रवार को रिक्टर पैमाने पर 4.4 तीव्रता के भूकंप के झटके महसूस किए गए। एक अधिकारी ने बताया कि भूकंप की वजह से किसी तरह के

शिमला : 68 सीटों वाले हिमाचल में हार और जीत का अंतर कई बार इतना मामूली होता है कि उम्मीदवार समझ ही नहीं पाता की कमी कहां रह गई। पिछले विधान सभा चुनाव में 8 विधानसभा सीटें ऐसी थीं जहां उम्मीदवारों के बीच हार-जीत का अंतर हजार वोट से भी कम था। ये भी देखें: हिमाचल …

शिमला : शिमला ग्रामीण विधानसभा से चुनावी मैदान में उतरे सीएम वीरभद्र सिंह के बेटे विक्रमादित्य सिंह 84 करोड़ की संपत्ति के मालिक हैं इसके साथ ही उन पर हैदराबाद के कारोबारी वकामुल्ला चंद्रशेखर का 84 लाख का कर्ज भी है। उन्हें एक ठेकेदार को 40 लाख और 10 लाख का वाहन कर्ज भी चुकाना …