home

कोरोना वायरस से बचने के लिए लोग घरों में बंद हैं। सब जगह दहशत और कौतूहल है कि अब आगे क्या होगा। लखनऊ में हमने कुछ लोगों से बातचीत की और जाना कि वे घर में किस तरह समय बिता रहे हैं और क्या क्या है उनके मन में।

कोरोना वायरस महामारी से जूझ रहे इटली में इस वायरस के संक्रमण से शुक्रवार को 250 लोगों की मौत हो गई। अधिकारिक आंकड़ों के अनुसार देश में इससे एक दिन में होने वाली मौतों की यह सर्वाधिक संख्या है।

घर के रोजमर्रा के कामों के लिए खुद के साथ हेल्प करने के लिए बाई को रखना अब आम हो गया है। काम को ले कर निश्चिंतता बनी रहें तो बाई के साथ रिश्ता सहज आत्मीय होता है। रोजीरोटी के इस रिश्ते में जरा सा दिल, थोड़ी सी इंसानियत, थोड़ा सा अपनापन शामिल करना जरूरी है। 

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर यूजर्स हर दिन कई घंटे बिताते हैं। कई प्लेटफॉर्म्स ऐसे भी हैं, जिनमें यूजर्स एक्टिव रहने के साथ ठीक-ठाक कमाई भी कर सकते हैं।

दरअसल, यूरोप के कई छोटे कस्बों और गांवों की तरह संबूका में भी समय के साथ आबादी बहुत कम होती गयी है और फिलहाल इस गांव की आबादी मात्र 5,800 है क्योंकि यहां के स्थानीय लोग या तो नजदीकी शहरों या फिर विदेशों में बसने चले गए हैं।

नवरात्रि नजदीक आने को हैं और घरों में इसकी तैयारियां अभी से शुरू हो गई हैं। सभी इस त्योहार बड़े जोश के साथ सेलेब्रेट करते हैं और अपने घर को सजाते हैं। घर को सजाने के लिए यूनिक और डिफरेंट आइडियास की जरूरत होती हैं

अब मौसम मानसून की तरफ बढ़ने लगा हैं और इसी के साथ बढ़ने लगी हैं मच्छरों की समस्याएं। मानसून के समय में पानी के जमा होने से मच्छरों की संख्या बढ़ने लगती हैं जो कई बीमारियां लेकर आते हैं। इसलिए जरूरी होता है कि इन मच्छरों को घर से दूर रखा जाएं।

जो लोग जानवरों के प्रेमी होते हैं, उन्हें घर में पेट्स रखने के फायदे व नुकसान दोनों होते हैं। वैसे ज्यादातर समृद्ध घरों में डॉग रखें जाते हैं। कहते हैं कि डॉग इंसान का सबसे बड़ा दोस्त होता हैं। जो सच्चा व मरते दम तक साथ देने वाला होता है।अब एक शोध में पता चला है कि डॉग इंसानों की रख वाली तो करता है उसके साथ-साथ सेहत का भी ख्याल रखता है।

 हमारे घर की सकारात्मक ऊर्जा का हमारे जीवन पर बहुत प्रभाव पड़ता है। वास्तु के अनुसार घर की हर दिशा का अपना महत्व हैं और इन दिशाओं में स्थित निर्जीव वस्तुएं एक विशेष ऊर्जा रखती हैं जो व्यक्ति के जीवन को प्रभावित करती हैं। इन्हीं में एक हैं घर के परदे।

लेबनान में एक ऐसा शहर है जहां मुसलमान न किराये पर घर ले सकते हैं और न खरीद सकते हैं। हदात शहर में अधिकारियों ने कुछ साल पहले आदेश जारी किया था कि केवल ईसाइयों को ही किराये पर लेने या घर खरीदने की अनुमति होगी।