hong kong

ब्रिटेन के चीनी राजदूत ने जवाब देते हुए कहा कि अगर ब्रिटेन द्वारा कथित मानवाधिकार उल्लंघन को लेकर उसके अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाया जाता है तो चीन की तरफ से भी इसका मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा।

चीन के विदेश मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि बीजिंग बैंकों को निशाना बनाने वाले कानून के जवाब में अमेरिकी व्यक्तियों और संस्थाओं के खिलाफ प्रतिशोधात्मक प्रतिबंध लगाएगा।

अमेरिका और चीन के बीच तनाव बढ़ गया है। अब इस बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक आदेश जारी करते हुए चीन के नियंत्रण वाले हांगकांग के विशेष दर्जे को समाप्त कर दिया है।

अमेरिका और ब्रिटेन के बाद अब ऑस्ट्रेलिया ने भी हॉन्ग कॉन्ग की स्वायत्तता के मुद्दे पर चीन के खिलाफ आवाज उठाई। चीन ने ऑस्ट्रेलिया को उसके मामले में दखल न देने की चेतावनी दे डाली।

हांगकांग में विवादित सुरक्षा कानून लागू होने के बाद चीन पूरी दुनिया के निशाने पर आ गया है। अमेरिका के बाद ब्रिटेन ने भी हांगकांग को लेकर अपना...

कोरोना वयरस के बाद सैन्य आक्रामकता और हॉन्ग-कॉन्ग को लेकर दुनियाभर में चीन के खिलाफ गुस्सा बढ़ रहा है। चीन के हॉन्ग-कॉन्ग में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लाने के बाद अंतरराष्ट्रीय मंच पर भी उससे सवाल पूछे जा रहे हैं।

चीन को ब्रिटेन से तगड़ा झटका मिला है। ब्रिटेन ने एलान किया है कि वह हॉन्ग कॉन्ग के तकरीबन 30 लाख लोगों को अपने देश आने की पेशकश करेगा। आपको बता दें कि हॉन्ग कॉन्ग की कुल आबादी 74 लाख है।

व्हाइट हाउस में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि चीन की संसद ने हांगकांग लोगों को कमजोर करने के लिए हाल में नए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून को मंजूरी दी है।

विदेशी मामलों और रक्षा को छोड़कर, जो जनवादी गणराज्य चीन सरकार की जिम्मेदारी है। हॉन्गकॉन्ग में रहने वाले अमीर चाइनीज अपना निवेश और फंड शिफ्ट कर रहे हैं। हॉन्ग कॉन्ग में निवास करने वालों को अब यह चिंता सता रही है कि चीन के नए विवादास्पद नेशनल सिक्योरिटी लॉ के कारण मेनलैंड अथॉरिटी उनकी संपत्ति ट्रैक और जब्त कर सकती है।