IAEA

यह बैठक ऐसे समय में बुलाई जा रही है जब ईरान ने विश्व शक्तियों के साथ 2015 में हुए समझौते में तय की गई सीमाओं में से एक का उल्लंघन किया है।

ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी ने साल 2015 में ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते के प्रति अपनी बचनबद्धता दोहराई है।

संयुक्त राष्ट्र की परमाणु निगरानी एजेंसी अंतर्राष्ट्रीय परमाणु ऊर्जा एजेंसी (आईएईए) ने एक बार फिर इस बात की पुष्टि की है कि ईरान परमाणु समझौते की प्रतिबद्धताओं का पालन कर रहा है।