iaf

सोमवार को चीनी सेना ने अपने कदम पीछे खींच लिए हैं, लेकिन भारत अभी भी सतर्क है और अपनी सख्ती बरकरार रखी है। कल यानी सोमवार रात लड़ाकू हेलिकॉप्टर अपाचे ने भारत-चीन बॉर्डर के पास अपना ऑपरेशन किया।

भारत और चीन के बीच लद्दाख क्षेत्र के गलवान घाटी में हिंसक झड़प हुई है। इस हिंसक झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद हो गए हैं, वहीं चीन 43 सैनिक मारे गए हैं। इस हिंसक झड़प के बाद लद्दाख में एलएसी पर चीन और भारत के बीच तनाव चरम पर है।

इस समय देश पर कोरोना का अटैक जारी है। उससे लड़ने के लिए कोरोना योद्धा अपनी ड्यूटी पर हैं। इन कोरोना योद्धाओं को सलामी देने के रविवार को तीनों सेनाओं...

बालाकोट एयर स्ट्राइक के हीरो रहे विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को आज देश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया जानती है। विंग कमांडर अभिनंदन के साहस और बहादुरी ने पूरी दुनिया को कायल कर दिया।

इंडियन स्पेस रिसर्च सेंटर (इसरो) ने साल के पहले ही दिन तीन बड़े ऐलान किए। इसरो चीफ के सिवन ने चंद्रयान-3, गगनयान प्रोजेक्ट और नए स्पेस पोर्ट के बारे में जानकारियां दी। सिवन ने बताया कि केंद्र सरकार ने चंद्रयान-3 को मंजूरी दे दी है।

पूर्व वायुसेना चीफ बीएस धनोआ ने बड़ा खुलासा किया है। उन्होंने बताया कि भारतीय वायुसेना ने मुंबई में पाकिस्तान से आए आतंकवादियों के भीषण हमले के बाद एयर स्ट्राइक की योजना तैयार की थी, लेकिन तत्कालीन सरकार ने इसकी मंजूरी नहीं दी।

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को पाकिस्तान परमाणु हमले की धमकी पर करारा जवाब दिया है। उन्होंने कहा कि हमारे जाबांज जवानों के पास क्षमता है और भारत पर बुरी नजर डालने वालों को मुहंतोड़ जवाब दे सकते हैं।

नई दिल्ली: रक्षा विभाग से जुड़े सूत्रों ने आज एक जानकारी दी है। Mi-17 हेलीकॉप्टर क्रैश में वायुसेना के छह कर्मी मारे गए थे। यह घटना 27 फरवरी को श्रीनगर के पास बडगाम में हुई थी। भारतीय वायुसेना के Mi-17 हेलीकॉप्टर के हादसे का शिकार होने के मामले में 6 अधिकारियों पर कार्रवाई की जाएगी। …

दशहरे के मौके पर मंगलवार को भारत को राफेल लड़ाकू मिलने के बाद इंडियन एयरफोर्स की ताकत बढ़ जाएगी। राफेल दुनिया का सबसे शक्तिशाली फाइटर प्लेन है। दुनिया की सबसे घातक मिसाइलों और सेमी स्‍टील्‍थ तकनीक से लैस है।

भारतीय वायुसेना की ताकत में बढ़ोत्तरी हुई है। बेहद खतरनाक माने जाने वाले एएच-64ई अपाचे गार्जियन अटैक हेलिकॉप्टर वायुसेना में शामिल होने के लिए भारत पहुंच गए हैं। उन्हें वायुसेना में शामिल करने के लिए हिंडन एयरबेस से पठानकोट एयरबेस भेजा गया है।