illegal mining

खनन विभाग में फर्जी ई-रवन्ना (मडड11 रायल्टी पेपर) बनाकर हजारों ट्रकों से अवैध तरीकें से बालू, मोरंग व गिट्टी की निकासी की जा रही है। इसके जरिये सरकार को लगभग दो सौ करोड़ की राजस्व की क्षति हो चुकी है।

खनन माफिया बेखौफ होकर गंगा समेत तमाम नदियों पर सरेआम खनन कर रहे हैं। नया मामला उन्नाव से है जहां अवैध खनन से गंगा के परियर घाट पर दफन करीब 100 शव शुक्रवार को बाहर आ गए, जिससे ग्रामिणों में दहशत व्याप्त है।

सीबीआई की टीम अवैध खनन के एक पुराने मामले में फिर से सक्रिय हो गई है और इस मामले में अब उसके हाथ पूर्व सीएम अखिलेश यादव तक जल्द ही पहुँचने वाले हैं।

खनन पर रोक लगाने की तैयारी के बाद भी अभी तक बुन्देलखण्ड में अवैध खनन पर रोक नहीं लग पा रही है। जिलो के विभिन्न क्षेत्रों में लगातार अवैध रूप से खनन किया जा रहा है। ऐसे कई मामले पुलिस की पकड़ में आ रहे है। लेकिन खनन माफियाओं के खिलाफ सख्त कार्रवाई नहीं होने से जिले मे अवैध खनन का दौर जारी है।

प्रदेश में अवैध खनन और परिवहन पर नियंत्रण के लिए भूतत्व एवं खनिकर्म विभाग ने इंटीग्रेटेड माइनिंग सर्विलांस सिस्टम को प्रभावी बनाया है। सिस्टम को सुचारू रूप से क्रियान्वयन के लिए खनिकर्म निदेशालय में स्थायी कमाण्ड सेंटर स्थापित किया गया है। इस सेंटर के माध्यम से आर्टिफिशियल

अब यूपी में अवैध खनन करना भारी पड़ सकता है। प्रदेश के खनन विभाग ने अवैध खनन का पता लगाने के लिए ड्रोन सर्वे टीम को लगा दिया है। सहारनपुर तथा हरियाणा बार्डर पर इस ड्रोन सर्वे टीम को सफलता भी मिली है।

जनपद बांदा में खनन क्षेत्रों में हो रहे अवैध खनन एवं परिवहन की आकस्मिक जांच में दोषी पाये गये खान अधिकारी शैलेन्द्र सिंह के स्थानान्तरण और निलंबन की संस्तुति के निर्देश दिये गये हैं। जांच में दोषी पाये गये चार पट्टाधारकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी गई है।

अखिलेश यादव राज में हुए खनन में घोटाले में एक तरफ जहाँ सीबीआई के छापेमारी के बाद ईडी ने आईआईएस अफसर बी चन्द्रकला और पूर्व सीएम अखिलेश यादव समेत 11 लोगों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है तो दूसरी तरफ निदेशक भूतत्व एवं खनिकर्म डा0 रोशन जैकब ने जालौन में छापेमारी कर अवैध खनन और ओवरलोडिंग के इलज़ाम में 52 गाड़ियों को सीज़ करते हुए सर्वेक्षक को सस्पेंड कर दिया है योगी राज में अवैध खनन के खिलाफ अब तक की सब से बड़ी कार्रवाई है।

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले में अवैध खनन पर रोक के बावजूद अधिकारियों की मिलीभगत से प्रतिदिन करोड़ों का चूना लगाया जा रहा है। यहां रात के अंधेरे में पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारियों की मिलीभगत से खनन माफिया जमकर मिट्टी खनन करवा रहे हैं।