india

वैक्सीन एक्सपर्ट गगनदीप कांग कहती हैं कि वैक्सीन को लेकर भरोसे की कमी नहीं है। लेकिन जिस तरीके से और जिस प्रक्रिया के तहत वैक्सीन को मंजूरी दी गई है उसमें भरोसे की कमी है।

आज इसी का परिणाम है कि विभिन्न कौशल संस्थानों में प्रशिक्षण ले रहे युवाओं ने अपने सामर्थ्य एवं कुशलता का परिचय देते हुए नवाचार के क्षेत्र में अनेक नए प्रयोग किए हैं

सरकार के अब तक के बर्ताव से साफ है कि वह आंदोलनकारी किसानों को किसान मानने को तैयार नहीं है। जबकि आंदोलनकारी किसान सरकार हर रोज बदलती रणनीतियों से ये बात समझ चुके हैं कि सरकार उनकी मांगें नहीं मानेगी इसलिए बातचीत के नाम पर लकीर पीटने की प्रक्रिया की खानापूर्ति हो रही है।

भारतीय किसान यूनियन (मान) के प्रमुख भूपिंदर सिंह मान राज्यसभा के भी सदस्य रह चुके हैं। किसानों के मुद्दों को लेकर उनके योगदान को ध्यान में रखते हुए राष्ट्रपति ने 1990 में उन्हें राज्यसभा का सदस्य मनोनीत किया था।

रामनरेश त्रिपाठी के पिता पं. रामदत्त त्रिपाठी भारतीय सेना में सूबेदार रहे थे। इसलिए पंडित रामनरेश त्रिपाठी को धर्मनिष्ठा, कर्तव्यनिष्ठा व राष्ट्रभक्ति की भावना विरासत में मिली थी।

अरविन्द शर्मा प्रशासनिक सेवा से राजनीति में आने वाले कोई पहले अधिकारी नही हैं। इससे पहले कई रिटायर्ड आईएएस और आईपीएस अधिकारी अपनी राजनीतिक पारी खेल चुके हैं।

अहमदाबाद के दैनिक ''गुजरात समाचार'' के सहसंपादक के पद से जीवन प्रारंभ कर वे बुलन्दियों तक पहुंचे। यदि कुटिल तेलुगुभाषी नियोगी विप्र नरसिम्हा राव छल न करते, तो अन्तिम शेष तीन दशक उनके सियासी वनवास में न गुजरते।

प्रकाश बिना हेलमेट पहने गाड़ी चला रहा था और उसके वाहन का रजिस्ट्रेशन नंबर भी नहीं था। उसने मध्यप्रदेश से यह दोपहिया वाहन खरीदा और बिना गाडी का रजिस्ट्रेशन कराये पानी के ड्रम बेचने के लिए रायगड़ा चला गया

राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के अनुसार भारत में हर 16 मिनट में एक महिला के साथ बलात्कार होता है, और हर 4 मिनट में उसे वर्तमान में अपने ससुराल वालों से मानसिक और भावनात्मक रूप से प्रताड़ित होना पड़ता है।

हरियाणा सरकार से किसानों की नाराजगी इस हद तक बढ़ चुकी है कि पिछले दिनों मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर करनाल में किसान महापंचायत के नहीं कर सके थे।