indian railway

सरकार ने भारतीय रेलवे स्टेशन पुनर्विकास निगम लिमिटेड के जरिये 2020-2021 में पूरे देश में 50 स्टेशनों के पुनर्विकास के लिए निविदा जारी करने की योजना बनाई है और इसपर 50,000 करोड़ रुपये का निवेश का प्रस्ताव है।

भारतीय रेलवे ने गुरुवार को यानि आज  550 से ज्यादा ट्रेनें कैंसिल कर दी हैं। जिसमें कई गाड़ियों को आंशिक रूप से रद्द किया गया है, जबकि कुछ गाड़ियां पूरे दिन के लिए कैंसिल की गई हैं इसके अलावा, कई ट्रेनों का रूट डायवर्ट किया गया है।

सभी रेल यात्रियों के लिए बड़ी और अच्छी खबर आर ही है। रेलवे अपने यात्रियों को नई सुविधाएं देने वाली है।

भारत में ट्रेनें चलाने के लिए प्राइवेट कंपनियों को दिए गए न्यौते का खूब स्वागत किया गया है। कम से कम दो दर्जन कंपनियों ने भारत सरकार की पेशकश में रुचि दिखाई है। इन कंपनियों में आल्सटॉम ट्रांसपोर्ट, बॉम्बार्डियर, सीमेन्स एजी और मैक्वेरी जैसी दिग्गज कंपनियां शामिल हैं।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को संसद में बजट पेश कर दिया है। बजट में रेलवे से जुड़े ऐलान किए गए हैं। 550 रेलवे स्टेशनों पर वाई फाई सुविधा दी गई है। 27 हजार किलोमटीर ट्रैक का इलेक्ट्रिफिकेशन होगा।

प्राइवेट कंपनियों के बीच टेंडर या नीलामी की प्रक्रिया चंद हफ्तों में शुरू होने की उम्मीद है। कंपनियां रूटों के नेटवर्क के लिह बोलियां लगाएंगीं और रेवेन्यू शेयरिंग मॉडल पर उनका चयन किया जाएगा।

रेल यात्रियों के लिए बड़ी खुशखबरी है। अब देश को छह और कॉरिडोर पर बुलेट ट्रेन का गिफ्ट मिल सकता है। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वीके यादव ने बुधवार को कहा कि रेलवे ने हाई स्पीड और सेमी-हाई स्पीड रेल कॉरिडोरों के लिए छह सेक्शन चिह्नित किए हैं।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने सोमवार को कहा कि भारतीय रेलवे को 2024 तक पूरी तरह से विद्युतीकरण करने की उम्मीद है, इसके लिए पहले से ही डीजल इंजनों को धीरे-धीरे सेवा से बाहर किया जा रहा है।

रेलवे प्रटेक्शन फोर्स (आरपीएफ) ने मंगलवार को एक ई-टिकटिंग रैकेट का भंडाफोड़ किया है। इस रैकेटे के तार दुबई, पाकिस्तान और बांग्लादेश से जुड़े हुए हैं। आरपीएफ डीजी अरुण कुमार ने प्रेस कांफ्रेस कर बताया कि इसके पीछे आतंकी फंडिंग का शक है।

लखनऊ से वाराणसी रेल मार्ग का दोहरीकरण कार्य चल रहा है। उतरेटिया से श्रीराज नगर तक दोहरीकरण पूरा कराया जा चुका है। अब श्रीराज नगर से कुंदनगंज तक दोहरीकरण कार्य को अंतिम रूप देना है। इसीलिए नान-इंटरलॉकिंग की अनुमति का इंतजार हो रहा था, क्योंकि इस कार्य को पूरा करने के लिए ट्रैफिक ब्लॉक लेना पड़ेगा।