Indian Railways

भारतीय रेलवे (Indian Railways) लगातार नए कीर्तिमान रच रहा है। अब रेलवे अपने नाम एक और रिकॉर्ड करने जा रहा है। अब भारतीय रेलवे की पटरियों पर ट्रेनें सोलर पावर की बिजली से दौड़ेंगीं।

भारतीय रेलवे के डीजी (एचआर) आनंद इस खाती ने एलान किया कि रेलवे में किसी की नौकरी नहीं जायेगी और न ही भर्तियों पर कोई असर पड़ेगा।

भारतीय रेलवे लगातार नए रिकॉर्ड बना रहा है। इस बीच गुरुवार को पटरियों पर 2.8 किलोमीटर लंबे शेषनाग ट्रेन के दौड़ने के साथ ही रेलवे ने एक रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है।

भारतीय रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव बड़ा एलान करते हुए बताया कि सब कुछ ठीक रहा तो अप्रैल 2023 तक यात्री प्राइवेट ट्रेनों से सफर कर सकेंगे।

एक जुलाई को देश में चल रही है 201 ट्रेनें अपने तय समय के अनुसार स्टेशनों पर पहुंची और ऐसा इतिहास में पहली बार हुआ है कि सभी ट्रेनें अपने निर्धारित समय पर स्टेशन पर पहुंची हो।

कोविड -19 की तैयारी के तहत, उत्तर मध्य रेलवे ने पहले ही रेलवे बोर्ड द्वारा जारी मानक स्कीम के साथ आईसीएफ डिजाइन के 130 जनरल और स्लीपर क्लास के डिब्बों को आइसोलेशन डिब्बों में बदल दिया है।

उत्तर मध्य रेलवे के मण्डल विशेष ट्रेनों की पंक्चुअलिटी में नए मानक स्थापित कर रहे हैं और तीनों डिवीजन आगरा, झांसी और प्रयागराज ने एक या अधिक दिनों पर ट्रेनों को 100 प्रतिशत समय से चलाने के स्तर को प्राप्त किया है।

रेलवे ने तीसरे चरण में 20 जून से इंटरसिटी ट्रेनों को चलाने की तैयारी पूरी कर ली है। कोरोना के संकट काल में इंटरसिटी ट्रेनों में भी यात्रा के नियमों में बदलाव किया गया है।

कोरोना संकट में भी भारतीय रेलवे लोगों की सुविधा के लिए विशेष ट्रेनें चला रहा है। इसके साथ ही रेलवे यात्रियों की सुरक्षा के आवश्यक दिशा-निर्देशों का पालन भी कर रहा है। अब इस बीच रेलवे ने ट्रेनों में खाली सीटों की लिस्ट जारी की है।

ऑल इंडिया स्टेशन मास्टर्स एसोसिएशन के मंडल सचिव अजय कुमार दुबे ने बताया कि मांगों को लेकर अभियान चलाया जा रहा है।