Indian Railways

अगर आप आज यानि रविवार को ट्रेन से सफर करने वाले हैं तो ये आपके लिए खास खबर है। क्योंकि भारतीय रेलवे ने रविवार को 200 से ज्यादा ट्रेनों को रद्द कर दिया है। इं

ऐसे में अगर त्योहार पर घर जाने का प्लान बना रहे हैं तो अब आराम से जाइए। रेलवे के इस बड़े कदम के बाद आप अगर कोई शॉर्ट ट्रिप प्लान कर रहे हैं तो वो भी आराम से कर सकते हैं। रेलवे के इस कदम की वजह से अब यात्रियों को काफी आराम होगा।

नई दिल्ली: त्योहार के सीज़न में सबको या तो घर जाना है या फिर कही घूमने जाना है। ऐसे में ट्रिप प्लान करने से पहले हम अपने बजट के बारे में जरूर सोचते हैं। कई बार तो बजट की वजह से हमे ट्रिप भी कैंसल करनी पड़ती है। अगर आ भी इस लिस्ट में शामिल …

रेलवे द्वारा इस बार सबसे ज्यादा पैसेंजर ट्रेनों को रद्द किया गया है। दरअसल देशभर में रेलवे के अलग-अलग जोन में मरम्मत का काम चल रहा है। मरम्मत के काम करने को लिए कई ट्रैफिक ब्लॉक लिए गए हैं। रेलवे चाहता है कि ये ट्रेनें बेहतर तरीके से चलें। इसलिए इनको रद्द किया गया है।

जोनल रेलवे यह भी तय करेंगे कि उनके रूट में अतिरिक्त और नई ट्रेनें चलाने की कितनी गुंजाइश है। निजी हाथों में सौंपने के लिए जिन ट्रेनों को चुना जाएगा उनके लिए कोचिंग टर्मिनल और वाशिंग लाइन आदि ज़रूरी क्षमता वर्धन सम्बंधी कार्य अलग से कराए जाएँगे।

उन्होंने ट्वीट कर लिखा था कि हमसफर एक्सप्रेस के किराये को नेशनलॉइज किया गया है। इसकी वजह से किराये में तो कमी आएगी साथ में यात्रियों को फायदा भी होगा।

त्योहार के बाद यह ट्रेन यात्रियों के लिए तरस जाती है। उन्होंने बताया कि इन दिनों जहां दिल्ली की ओर जानी वाली दूसरी ट्रेनों में वेटिंग चल रही है जबकि शताब्दी एक्सप्रेस में सीटें खाली हैं। इस चेयरकार ट्रेन में हवाई जहाज सी सुविधाओं वाली 'अनुभूति' बोगी भी है। हालांकि इसका किराया भी हवाई जहाज जैसा ही है।

रेल मंत्रालय नॉर्थ ईस्ट के राज्यों में 491 प्रोजेक्ट्स पूरा करेगा जिस पर 6.48 लाख करोड़ रुपए खर्च होंगे। इन प्रोजेक्ट्स में 189 नई रेल लाइनें, 55 आमान परिवर्तन और 247 डबलिंग प्रोजेक्ट शामिल हैं।

रेलवे स्टेशनों पर अव्यवस्था, प्लेटफार्मों से लेकर ट्रेनों तक में भीड़, गंदगी, रेलकर्मियों द्वारा घूसखोरी, कामचोरी, दुर्घटनाएं, ट्रेनों की लेटलतीफी वगैरह तरह-तरह की शिकायतें आम हैं। मोदी सरकार रेलवे में बदलाव के रास्ते पर तेजी से काम कर रही है और जल्द ही बड़े बदलाव नजर भी आएंगे।

मिली जानकारी के अनुसार, रेलवे में अभी 13 लाख कर्मचारी हैं। ऐसे में मंत्रालय इस संख्या में कटौती करना चाहता है। इसलिए अगले साल तक काफी कर्मचारियों को नमस्ते कर दिया जाएगा।