indo sino

चीन को भारत के स्टार्ट अप्स सबसे ज्यादा प्रिय हैं। ईकॉमर्स, फाइनेंशियल सर्विस, मीडिया, सोशल मीडिया, एग्रीगेटर सर्विस, और लॉजिस्टिक्स में 75 कंपनियों में चीनी पैसा लगा हुआ है। 1 बिलियन डालर की वैल्यू से ज्यादा के कम से कम 30 स्टार्ट अप में से आधे में चीनी निवेशक शामिल हैं।

अपने नागरिकों की इस तरह की सामूहिक वापसी कोई भी देश तभी करता है, जब उसे युद्ध का खतरा हो। इस खतरे के अंदेशे को बढ़ाने में चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के अंग्रेजी अखबार ‘ग्लोबल टाइम्स’ का भी योगदान है।