innovator

सन 1877 में टॉमस एडीसन ने पिट्सबर्ग की सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट एंड प्रिंटिंग टेलीग्राफ कम्पनी के अध्यक्ष टीबीए स्मिथ को लिखा कि टेलीफोन पर स्वागत शब्द के रूप में हैलो का इस्तेमाल करना चाहिए। उनकी सलाह को अंततः सभी ने मान लिया। उन दिनों टेलीफोन एक्सचेंज में काम करने वाली ऑपरेटरों को 'हैलो गर्ल्स' कहा जाता था। इस तरह हम हैलो हाय करने लगे

[nextpage title=”next” ] ज्यादा फोन मोबाइल यूजर्स रिसीव करते ही ‘हैलो’ बोलते है। क्या कभी सोचा है कि फोन उठाते ही सबसे पहले आप -हम  हैलो क्यों बोलते हैं? या फिर हैलो के अलावा और कुछ क्यों नहीं कहते। अब ये मत कहना कि जब से फोन आया है तब से लोग हैलो ही कहते …