jalabhishek

इन मंत्रों के जप-अनुष्ठान से सभी प्रकार के दुख, भय, रोग, मृत्यु भय आदि दूर होकर मनुष्‍य को दीर्घायु की प्राप्ति होती है। देश-दुनिया भर में होने वाले उपद्रवों की शांति और अभीष्ट फल की प्राप्ति को लेकर रूद्राभिषेक आदि यज्ञ-अनुष्ठान किए जाते हैं। इसमें शिवोपासना में पार्थिव पूजा का भी विशेष महत्व होने के साथ-साथ शिव की मानस पूजा का भी महत्व है

जयपुर: पुराणों में भगवान शिव की उपासना का उल्लेख बताया गया है। शिव की उपासना करते समय पंचाक्षार मंत्र ॐ नम: शिवाय और महामृत्युंजय आदि मंत्र जप बहुत खास है। इन मंत्रों के जप-अनुष्ठान से सभी प्रकार के दुख, भय, रोग, मृत्यु भय आदि दूर होकर मनुष्‍य को दीर्घायु की प्राप्ति होती है। देश-दुनिया भर में …

लखनऊ: सावन का तीसरा सोमवार मंदिरों में दिनभर शिव भक्तों की भीड़ उमड़ी  रही।  वैसे तो सबको शिव पूजा का विधि-विधान पता है और ये भी शिव भक्त अच्छी तरह जानते हैं  कि भोले बाबा सिर्फ जल और सच्ची श्रद्धा से ही अपने भक्तो पर कृपा बरसाते है। वैसे तो  सबको पता है सावन में …

लखीमपुर खीरी: जिले के अधिकतर पौराणिक शिव मंदिरों की अलौकिकता अश्वत्थामा के आगमन और पूजन से जुड़ी हैं। कुछ एक बाबर और औरंगजेब को खदेडऩे की गाथा भी कहते हैं। मगर इन सबके बीच एक ऐसा भी शिव मंदिर है, जो इन मान्यताओं से अलग है फिर भी इसकी महत्ता देश के सुदूर इलाकों तक …

कानपुर: शहर से दूर बनीपारा गांव में बाणेश्वर शिव मंदिर है। इस मंदिर के बारे में कहा जाता था कि सतयुग में राजा बाणेश्वर की बेटी यहां सबसे पहले पूजा करती है  और तब से अब तक इस शिवलिंग पर सबसे पहले सुबह यहां कौन पूजा करता है इसका रहस्य आजतक बरकरार है। आस-पास के …

कानपुर:  भगवान शिव का ये मंदिर कानपुर से 60 किलोमीटर दूरी पर परौली गांव में है। ये बाबा महादेव मंदिर के नाम से फेमस है। मंदिर लगभग 5 वीं सदी में बना है। कानपुर स्थित इस मंदिर की सभी मूर्तियों को मुगल शासक औरंगजेब ने खंडित कर दिया था, लेकिन वो भगवान शंकर के शिवलिंग …

बागपत: सावन का महीना चल रहा है भगवान शिव के मंदिरों में जम कर भीड़ लगी हुई बम-बम भोले के जयकारों से मंदिर गूंज रहे हैं। वहीं बागपत के ऐतिहासिक सिद्धपीठ महादेव मंदिर पर जलाभिषेक प्रारम्भ हो गया है। इस मंदिर में लाखों की संख्या में शिव भक्त कांवड़ियों ने जलाभिषेक किया। इस महादेव के …

वाराणसी: बारह ज्योतिर्लिंगो में एक है काशी के बाबा विश्वनाथ। जिनकी महिमा का बखान किसी के लिए भी असंभव है। पर उनका समीप्य और भक्ति तो हर को पाना चाहता है। सावन का दूसरा सोमवार और बाबा विश्वनाथ के दरबार में भक्तों की भीड़ ना उमड़े ये कैसे संभव हो सकता है। काशी विश्वनाथ के …

 मुजफ्फरनगर: सावन का महीना भोले बाबा का महीना है। इसमें भक्त अपनी शक्ति और भक्ति से बाबा की कृपा प्राप्त करने में लगे रहते है। भक्त सावन में कावड़ के साथ बाबा के दर्शन करते है। इस सावन भी भक्तों की कावड़ यात्रा पूरे जोरों पर है।  इस कावड़ यात्रा में जहां शिवभक्त अपने आराध्य भोलेनाथ की …

लखनऊ: भगवन शंकर जितने सरल और साधारण दिखते हैं,  उससे ज्यादा उनका पहनावा है। आज हम आपको  शंकर की वेशभूषा और उनसे जुड़े 15 रहस्य बताने जा रहे है जो आपको अचम्भित कर देंगे। चन्द्रमा शिव का एक नाम ‘सोम’ भी है। सोम का अर्थ चन्द्र होता है। उनका दिन सोमवार है। चन्द्रमा मन का कारक है। शिव का चंद्र को धारण करना मन को नियंत्रित करने का प्रतीक है। हिमालय पर्वत और समुद्र से चंद्रमा का सीधा संबंध है। चन्द्र कला का महत्व भगवान शिव के सभी त्योहार और पर्व चंद्र …