Jammu and Kashmir Reorganisation Act

अमेरिका और चीन तक ने अपने बयान जारी कर दिये हैं। रूस ने भी भारत का पक्ष लिया है। यही नहीं, कई मुस्लिम देशों ने भी पाकिस्तान का साथ देने से मना कर दिया है। इस मामले पर पाकिस्तान बिल्कुल अलग-थलग हो गया है।