jammu kashmir

महबूबा मुफ्ती को आर्टिकल 370 हटाए जाने से पहले पुलिस ने कस्टडी में ले लिया था। 434 दिन बाद महबूबा मुफ्ती को रिहा किया गया था। रिहाई के बाद महबूबा ने आते ही 370 की फिर से बहाली के लिए आवाज उठानी शुरू कर दी है।

आइजीपी कश्मीर विजय कुमार ने तीनों आतंकियों के मारे जाने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि इन्ही तीनों आतंकियों ने बीते सोमवार को सीआरपीएफ के गश्ती दल पर हमला किया था जिसमें सीआरपीएफ के दो जवान घायल हो गए थे।

जम्मू-कश्मीर के नज़रबंद नेताओं ने रिहा होते ही फिर से अपनी पुरानी खुऱाफात चालू कर दी है। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्रियों फारूख अब्दुल्ला, महबूबा मुफ़्ती, उमर अब्दुल्ला और जम्मू-कश्मीर पीपुल्स कॉन्फ़्रेंस, माकपा तथा जम्मू-कश्मीर अवामी नेशनल कॉन्फ़्रेंस के नेताओं ने हाल ही में यह मांग कर दी

सुरक्षाबलों ने मलूरा इलाके को घेरना शुरू किया, तो आतंकियों को इस बात की भनक होने पर उन्होनेें सेना पर हमला कर दिया। जवाबी कार्रवाई में सेना ने एक आतंकी को ढ़ेर कर दिया।

पुलवामा जिले के गंगू इलाके में संदिग्ध आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर हमला कर दिया। जिसमें एक जवान घायल हो गया, जिसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। हमले के बाद इलाके को सील कर दिया गया है।

भारतीय सेना ने जम्मू कश्मीर में आंतकियों की कमर तोड़ कर रख दी। इस साल जैसे सेना ने ठान लिया हो कि घाटी से आंतक शब्द का ही सफाया कर देना है।

जम्मू कश्मीर में आर्टिकल 370 लागू होने के बाद से पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला उनके बेटे उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ़्ती समेत कई अन्य कश्मीरी नेताओं को नजरबंद कर दिया गया था। बाद में एक-एक करके इन तमाम नेताओं की रिहाई कर दी गई। ये तीनों ही नेता इस वक्त रिहा हो चुके हैं। रिहा होते ही इन्हें अपने अस्तित्व पर खतरा मंडराते हुए नजर आने लगा। इसलिए आनन-फानन में एक बार फिर से फारूक अब्दुल्ला की अगुवाई में उनके  गुपकार रोड स्थित आवास पर तमाम बड़े कश्मीरी नेताओं की बैठक बुलाई गई और अनुच्छेद 370 की बहाली की मांग की गई।

जम्मू कश्मीर से आतंकवादियों का सफाया करने के लिए सेना ने तलाशी अभियान चला रखा है। आए दिन किसी न किसी जगह से सेना और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ की खबरें आती ही रहती हैं। सेना के इस कदम की जम्मू कश्मीर के लोग खूब सराहना भी कर रहे हैं। सेना उन्हें एक भयमुक्त माहौल देना चाहती हैं। इस काम में उससे लगातार सफलता मिलती ही जा रही है।

भाजपा अध्यक्ष ने जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 की बहाली की वकालत करने पर कांग्रेस पर तीखा हमला बोला। नड्डा ने अपनी ट्वीट में कहा कि बिहार चुनाव से पहले एक बार फिर कांग्रेस भारत को बांटो के गंदे हथकंडे पर वापस आ गई है।

शनिवार की सुबह अनंतनाग के लारनू इलाके में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ हो गयी। पुलिस और सुरक्षाबल की संयुक्त टीम ने ऑपरेशन आलआउट को अंजाम दिया