jan dhan account

कोरोना से जो लोग सबसे ज्यादा प्रभावित हुए है उनमें मजदूर गरीब तबका ज्यादा है, रोजी रोटी कमाने वाले लोग है। रोज कमाने खाने वालों पर तो कोरोना और लॉकडाउन ने तबाही की दीवार खड़ी कर दी है। लेकिन सरकार ने थोड़ा राहत दी है। जिससे गरीबों को अपना घर चलाने में

सोमवार 13 अप्रैल को वित्त मंत्रालय ने साफ दिया है कि अप्रैल के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत महिलाओं के प्रधानमंत्री जनधन खाते में सरकार द्वारा जमा गई राशि सुरक्षित है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जनधन योजना एकाउंट में भेजे गए पैसों को निकालने के लिए बैंक के सामने लंबी लगी लाइन लगी है।

केंद्र सरकार ने गरीब वर्ग को राहत देते हुए 'प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना' के जरिए 500 रुपये प्रति महीने की रकम डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी) के जरिए देने का ऐलान किया था।

नोटबंदी के बाद जनधन खातों में हो रही धांधली के बाद इनकम टैक्स डिपार्टमेंट और आरबीआई की नजर सभी जन धन खातों पर है। जानकारी के मुताबिक संभल के विभिन्न बैंकों में जन धन के 7000 हजार खातों में निर्धारित सीमा 50 हजार से कहीं अधिक और 2.50 लाख या इससे भी अधिक रुपए जमा हुए हैं। जिसके बाद ये खाते आयकर विभाग की नजर में आए। आरबीआई के निर्देशों के बाद इन्हें ब्लॉक कर दिया गया है। इसके साथ ही सभी खाताधारकों को नोटिस भी भेज दी गई है।

नई दिल्ली: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (अारबीआई) ने नोटबंदी के बाद नया सर्कुलर जारी किया है। अब आप अपने जनधन अकाउंट से एक महीने में सिर्फ 10 हजार रुपए ही निकाल पाएंगे। अगर आप केवाईसी होल्‍डर नहीं है तो आप सिर्फ 5 हजार ही निकाल पाएंगे। नोटबंदी के बाद जनधन खातों में अचानक पैसे जमा …

प्रधानमंत्री जन धन के 25.58 करोड़ खातों में कि 16 नवंबर तक 64,252 करोड़ रुपए जमा हुए हैं। वित्त राज्य मंत्री ने बताया कि उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक 10,670 करोड़ की राशि जमा हुई। यहां सबसे अधिक 3.79 करोड़ खाते हैं।