JDS

कर्नाटक की राजनीति में भूचाल आया गया है। कुमारस्वामी सरकार के सभी मंत्रियों ने इस्तीफे दे दिया है। कांग्रेस के 21, जेडीएस के 9 और एक निर्दलीय (एच नागेश) के इस्तीफे ने इस संकट को और बढ़ा दिया है। कहा जा रहा है कि अब नए मंत्रिमंडल का गठन होगा।

कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस के बागी विधायकों को मनाने की हर संभव कोशिश की जा रही है। अब गठबंधन सरकार की ओर से इनमें से कई विधायकों को मंत्री पद देने का वादा किया जा रहा है।

कर्नाटक में चल रहे सियासी संकट पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने शनिवार को दिल्ली स्थित रकाबगंज गुरुद्वारे में एक बैठक की। जानकारी के मुताबिक इस अहम बैठक में 10-15 नेता ही मौजूद रहे। बैठक से बाहर आने के बाद कांग्रेस प्रवक्‍ता रणदीप सुरजेवाला ने बीजेपी पर कर्नाटक सरकार गिराने का आरोप लगाया है।

कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस की गठबंधन सरकार गंभीर संकट मंडरा रहा है। प्रदेश के 11 कांग्रेस-जेडीएस विधायकों ने कर्नाटक विधानसभा से इस्तीफा दे दिया है। यह सभी विधायक विधानसभा स्पीकर को इस्तीफा देने के लिए गए थे, लेकिन अध्यक्ष के न मिलने पर उनके सचिव को ही अपना इस्तीफा सौंप दिया।

इनमें से सात विधायक कांग्रेस के हैं, जबकि तीन विधायक जेडीएस यानी जनता दल सेकुलर के हैं. कयास लगाए जा रहे हैं कि 10 में 8 विधायक विधानसभा स्पीकर के यहां इस्तीफा देने पहुंचे हैं. मगर अब स्पीकर विधानसभा में मौजूद नहीं हैं.

कर्नाटक में कांग्रेस-जद(एस) सरकार पर संकट की खबरों के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और राज्य प्रभारी केसी वेणुगोपाल मंगलवार की शाम को बेंगलुरू पहुंच रहे हैं।

चुनाव आयोग के एक दस्ते ने आयकर और प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों के साथ मिल कर हुब्बल्ली के दो होटलों में मंगलवार को छापेमारी की। इन होटलों में राज्य के मंत्री डी के शिवकुमार और कांग्रेस एवं जद (एस) के कुछ नेता ठहरे हुए थे। 

कर्नाटक में सत्तारूढ़ कांग्रेस और जनता दल-सेक्युलर (जद (एस)) के बीच मतभेद गहरा गए हैं। जद (एस) के प्रदेश अध्यक्ष ए एच विश्वनाथ और कांग्रेस नेता एवं कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरमैया ने एक-दूसरे पर ‘‘गठबंधन धर्म’’ का पालन नहीं करने के आरोप लगाए हैं।

हासन में अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने के बाद संवाददाताओं से गौड़ा ने कहा कि विरोधी उन पर परिवारवाद की राजनीति करने का आरोप लगाते हैं लेकिन राजनीति में उनकी कामयाबी भगवान के आशीर्वाद और मतदाताओं के कारण हैं, जिनकी उनका परिवार यथासंभव सर्वश्रेष्ठ तरीके से सेवा करता है। 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को कहा कि कर्नाटक में सत्ताधारी कांग्रेस-जदएस गठबंधन और उनके जैसे दल ‘‘परिवारवाद’’ से प्रेरित हैं और वे परिवार के आखिरी सदस्य को भी सत्ता देने में विश्वास करते हैं।