jharkhand

शरद पवार ने कहा कि विपक्ष को ममता बनर्जी के साथ खड़ा होना चाहिए। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी एनसीपी पश्चिम बंगाल चुनाव में उम्मीदवार नहीं उतारने पर विचार कर रही है।

इन्हें समाज में ढुकू के नाम से बुलाया जाता है। इनसे सामाजिक समारोह में शामिल होने तक का अधिकार छीन लिया जाता है और लोगों के ताने भी सुनने पड़ते हैं।

कोरोना महामारी के आगमन के बाद से ही देश के सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया था। हालांकि अब राज्यों में कोरोना के मामले कम होने के बाद राज्य सरकारें स्कूलों को खोल रही हैं। उत्तर प्रदेश के कक्षा एक से पांचवीं तक के स्कूलों को एक मार्च से खोलने की अनुमति दे दी गई है।

चाहे जिंदगी में कितनी भी मुश्किलें आए अगर हौसला बुलंद है तो मंजिल पाना मुश्किल नहीं इस बात को सच कर दिखाया एक छोटी सी बच्ची ने। जिस उम्र में बच्चे खाते और खेलते हैं उस उम्र में यह  छोटी सी बच्ची चना बेचकर अपने परिवार का पेट भरती है। जी हां हम बात कर रहे हैं झारखंड के समडेगा जिला की रहने वाली पालनी की।

झारखंड हाई कोर्ट में सुनवाई के दौरान जस्टिस अपरेश कुमार सिंह ने रिम्स प्रबंधन को 1 सप्ताह के अंदर सभी कागजात जमा करने का निर्देश दिया है। लालू प्रसाद की चिकित्सा से जुड़े कागजात जमा करने के बाद 5 मार्च को मामले की सुनवाई होगी।

झारखंड में कांग्रेस पार्टी के अंदर जारी खींचतान और गुटबाजी खुलकर सामने आ गई है. हालत यहां तक पहुंच गई है कि पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव की मौजूदगी में पार्टी नेता एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप करते नजर आये.

किरासन तेल में विस्फोट का पहला मामला 15 फरवरी को सामने आया। 35 वर्षीय सविता देवी अपने दो बच्चों की मौजूदगी में लैम्प में तेल भर रही थी।

बीजेपी सांसद कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौर ने इस वीडियो को अपने ट्विटर हैंडल पर ट्विट करते हुए कांग्रेस पार्टी पर तंज कसा है। उन्होंने लिखा है कि किसान बिल के विरोध में भीड़ जुटाने के लिए किसी भी हद तक जाएंगे

ईशान किशन ने उत्कर्ष सिंह के साथ पारी की शुरुआत की। हालांकि झारखंड की शुरुआत खराब रही और टीम का 10 रन पर पहला विकेट गिर गिया। उत्कर्ष के आउट होने के बाद ईशान ने कुमार कुशाग्र के साथ पारी संभाली और 113 रनों की साझेदारी की।

झारखंड के मुख्य सचिव सुखदेव सिंह ने मानव जीवन को अति महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि, जीवन की रक्षा सुनिश्चित करना अति महत्वपूर्ण है। इसके लिए यातायात नियमों का पालन कराना हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए।