kamal haasan

नई दिल्ली: अभिनेता से नेता बने कमल हासन ने एक बार फिर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि हमें राष्ट्पिता महात्मा गांधी के आजादी के आंदोलन में योगदान को याद रखने के लिए नाथूराम गोडसे जैसे हत्यारे के भूत की जरूरत नहीं है।

मक्कल निधी मैअम अध्यक्ष और अभिनेता कमल हासन ने बुधवार को यहां मद्रास उच्च न्यायालय के समक्ष अग्रिम जमानत याचिका दायर की और कहा कि उनका भाषण सिर्फ नाथूराम गोडसे के खिलाफ था और सभी हिंदुओं के बारे में नहीं था। 

आजाद भारत का पहला चरमपंथी एक हिंदू था’ अपने इस बयान पर विवादों में घिर गये मक्कल नीधि मैयम के संस्थापक कमल हासन ने बुधवार को कहा कि उन्होंने वही कहा है जो एक ऐतिहासिक सच था।

दिल्ली हाईकोर्ट ने बुधवार को निर्वाचन आयोग को चुनावी बढ़त बनाने के उद्देश्य से धर्म के अनुचित प्रयोग पर ‘प्रतिबंध’ लगाने का निर्देश देने की मांग करने वाली भाजपा नेता की ओर से दायर जनहित याचिका पर सुनवाई करने से इंकार कर दिया।

इस चुनाव में हिंदू आतंकवाद का मुद्दा अपने चरम पर है। जब भारतीय जनता पार्टी ने मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से मालेगांव आतंकी ब्लास्ट की आरोपी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को टिकट दिया, तो विपक्षी पार्टियों ने इस पर सवाल खड़े कर दिए।

मक्कल नीधि मैयम (एमएनएम) के संस्थापक कमल हासन ने यह कहकर नया विवाद खड़ा कर दिया है कि आजाद भारत का पहला ‘‘आतंकवादी हिन्दू’’ था। वह महात्मा गांधी की हत्या करने वाले, नाथूराम गोडसे के संदर्भ में बात कर रहे थे।

एक्टर और तमिलनाडु की पार्टी मक्कल नीधि मैयम (एमएनएम) के संस्थापक कमल हासन ने पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी से मुलाकात की। मुलाकात के बाद उन्होंने कहा, वह इस बार के लोकसभा चुनाव में अंडमान एवं निकोबार द्वीपसमूह में तृणमूल कांग्रेस के लिए प्रचार करेंगे।