kamlesh Tiwari Murder Case

वरिष्ठ अभियेाजन अधिकारी अवधेश सिंह ने अर्जी पर बहस करते हुए कोर्ट से कहा कि अभी दोनों से काफी पूछ-ताछ  करनी है और इस केस से जुड़े अहम पहलुओ की जांच के लिए दोनों को पुलिस कस्टडी में देना आवश्यक है। यह दोनों अभियुक्त अशफाक और मोइनुददीन हैं।

कमलेश तिवारी हत्याकांड में बड़ा खुलासा हुआ है। खुलासा में पता चला है कि हत्याकांड में सूरत से पकड़ा गया रशीद मुख्य आरोपी नहीं है, बल्कि नागपुर से पकड़ा गया आसिम मुख्य साजिशकर्ता था।

गुजरात एटीएस ने मंगवार शाम को हत्या के मुख्य आरोपी शेख अशफाक हुसैन और पठान मोइनुद्दीन अहमद को राजस्थान बॉर्डर से गिरफ्तार कर लिया है।

लखनऊ के बहुचर्चित कमलेश तिवारी हत्याकांड के दोनों मुख्य आरोपियों को गुजरात एटीएस ने गिरफ्तार कर लिया है। एटीएस ने दोनों मुख्य आरोपियों को राजस्थान सीमा से गिरफ्तार किया है। आरोपियों के नाम अशफाक और मोइनुद्दीन हैं और दोनों को लखनऊ लाया जाएगा।

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की दिनदहाड़े गला रेतकर हत्या कर दी गई। हिंदूवादी नेता की हत्या को चार दिन बीत चुके हैं, लेकिन पुलिस अभी तक हत्यारों को नहीं पकड़ पाई है।

जानकारी के अनुसार अशफाक नाम के व्यक्ति ने सोशल मीडिया पर रोहित सोलंकी नाम से इसी साल जून में एक फेक अकाउंट बनाया था। वारदात वाले दिन 18 अक्टूबर को कमलेश और रोहित की मुलाकात पहले से तय थी।

बता दें कि दोनों हत्यारे अभी फरार हैं। पुलिस की कई टीमें उनकी तलाश में यूपी के पड़ोसी राज्यों में डेरा जमाये हुए हैं। कमलेश तिवारी हत्याकांड में शामिल तीनों आरोपियों को पुलिस अहमदाबाद लेकर पहुंच चुकी है।

उन्होंने कहा, "पुलिस वाले बार-बार दबाव डाल रहे थे। हमें जबरदस्ती लखनऊ लाया गया।" कमलेश की मां कुसुम तिवारी ने यह भी कहा कि अगर उन्हें इंसाफ नहीं मिला तो वह तलवार उठाएंगे।

जानकारी के अनुसार सीएम योगी से मुलाक़ात करने कमलेश तिवारी की मां, उनकी पत्नी और उनका बेटा सीएम से मिलने लखनऊ पहुंचे हैं।