kargil

जम्मू-कश्मीर अब केंद्र शासित राज्य हो गया है। इस वक़्त राज्यसभा में जम्मू-कश्मीर का प्रतिनिधित्व चार मौजूदा सांसद कर रहे हैं लेकिन अब वह केंद्र शासित राज्यों का प्रतिनिधित्व करेंगे। साथ ही, इनके कार्यकाल में कोई बदलाव नहीं होगा।

शहीदों की चिताओं पर जुड़ेंगे हर बरस मेले वतन पर मरने वालों का यही बाक़ी निशाँ होगा। वर्ष 1916 में जगदम्बा प्रसाद मिश्र हितैषी ने शहीदों की शहादत को नमन करते हुए यह गौरव गाथा लिखी थी। कारगिल विजय के बीसवें साल में जिस तरह समूचे देश ने कारगिल में शहीद हुए 527 जाबांज जवानों …

भवानीगढ़ कस्‍बे के एक चौक पर उलझी ट्रैफिक व्‍यवस्‍था को सामान्‍य करते यातायात पुलिस के इस हेड कांस्‍टेबल के अंदाज इसके अन्‍य पुलिस कर्मियों से अलग करते हैं। इस पुलिसकर्मी की वर्दी भी वर्दी पर लगे मेडल भी इसे पंजाब पुलिस के अन्‍य कर्मियों से अलग पहचान दिलाते हैं।

सपा मुखिया अखिलेश यादव  ने कहा कि कारगिल का युद्ध दुनिया के सबसे खतरनाक युद्धों में गिना जाता है। हमारे जवानों ने अपने देश की धरती की सुरक्षा और राष्ट्रध्वज तिरंगे की शान बचाने के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान दिया, उनकी कुर्बानी कभी भुलाई नहीं जा सकती है।

नई दिल्ली: ‘कारगिल विजय दिवस’ की आज 20वीं वर्षगांठ है। आज ही के दिन साल 1999 में भारतीय सेना ने पाकिस्तान को युद्ध में हराकर कारगिल में तिरंगा फहराया था। ऐसे में हर देशवासी इस मौके पर शहीद हुए जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित करता है। यह भी पढ़ें: कारगिल विजय दिवस के मौके पर शहीदों को …

कारगिल युद्ध मई 1999 के पहले सप्ताह से शुरू होकर 26 जुलाई तक चला। 26 जुलाई को हर साल कारगिल विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है। 74 दिन तक चले इस युद्ध में भारत को पाकिस्तान से जीत मिली थी और तात्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने इस दिन को कारगिल विजय दिवस के रूप में मानाने की घोषणा की थी।

भारतीय सेना ने 'करगिल विजय दिवस' के 20 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में एक विडियो जारी कर उन शूरवीरों को नमन किया है जिन्होंने इस युद्ध में अदम्य साहस का परिचय दिया था।

भारतीय वायुसेना ने एक साहसिक कदम उठाते हुए भारी बर्फबारी के कारण शेष राज्य से छह महीने तक कटे रहने वाले लद्दाख के कारगिल में कारगिल कोरियर सेवा  शुरू करेगी। जिसके तहत जम्मू से कारगिल के लिए 26 दिसंबर और श्रीनगर से कारगिल के लिए 27 दिसंबर से वायुसेना के विमान उड़ान भरेंगे।

जम्मू: जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर पाकिस्तानी गोलीबारी में सीमा सुरक्षाबल (बीएसएफ) का एक अधिकारी घायल हो गया। सूत्र ने शनिवार को बताया कि शुक्रवार शाम को सुंदरबनी सेक्टर में नियमित गश्ती के दौरान सहायक उपनिरीक्षक (एएसआई) एस.के.मिश्रा को गोली जा लगी। यह भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर: शोपियां जिले में जारी मुठभेड़ में …

बीएचयू के दर्जन भर से ज्यादा छात्र-छात्राओं की टोली शनिवार को देहात कोतवाली इलाके के विंढम फॉल घूमने आई थी। इसी दौरान सेल्फी लेन के प्रयास में गुलजार हुसैन गहरे पानी में गिर गया। लोगों ने उसे तलाश कर बाहर निकाला। आनन फानन में उसे मंडलीय अस्पताल ले जाया गया। लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।