kasganj

भाकियू के मंड़ल प्रभारी कुलदीप पांडेय ने बताया कि लेखपाल किसानों  के प्रमाण पत्र बनाने के नाम पर तीन तीन सौ रूपये का काम करते हैं, यानि का खून चूसने का काम करते हैं, जब इस बात का यूनियन ने विरोध किया तो लेखपालों ने किसानों पर हमला वोल दिया और उलटा किसान नेताओ के ऊपर मुकदमा दर्ज करा दिया।

यूपी के जनपद कासगंज में एक दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। यहां मासूम बच्चे के सौतेले पिता ने शरारत करने पर उसकी पीट -पीट हत्या कर दी। मासूम बच्चे को ज़मीन पर पटक कर उसके पेट पर खड़ा हो गया। जिससे बच्चे की मौके पर मौत हो गईं।

ताजा मामला यूपी के कासगंज जिले के बीजेपी विधायक देवेन्द्र सिंह राजपूत के पुत्र जसवीर और भतीजे दुष्यंत का है। जहां दो एम्बुलेंस चालको में हुई मारपीट के मामले को लेकर विधायक पुत्र और भतीजे ने खुले आम सोरों गेट चौकी इंचार्ज सतेन्द्र पाल को गाली गलौज ही नहीं  बल्कि उन्हें चौकी के बाहर आने पर जमीन पर लिटा कर मारने की धमकी दी है ।

पुलिस ने पीड़िता को चिकित्सीय परीक्षण के लिए जिलाअस्पताल में भेज दिया है। आपको बता दें कि दुराचार की पीड़िता सोरों कोतवाली क्षेत्र के गांव चकूपुर की रहने वाली 14 वर्ष की किशोरी है। पीड़िता की माने तो वह 21 जून की शाम को खेत मे शौच करने के लिए गई हुई थीं।

कासगंज शहर में एक बार फिर विधुत विभाग की लापरवाही का मामला सामने आया है।जर्जर एचटी लाइन का विधुत तार एलटी लाइन पर गिर जाने से घरों में एचटी लाइन का करंट पहुंच गया। जिसमें आधा दर्जन लोग करंट की चपेट में आ गये।

कासगंज: गणतंत्र दिवस के मौके पर जिले में तिरंगा यात्रा के दौरान भड़की हिंसा तो अब शांत हो गई है, लेकिन कुछ लोग एटा व कासगंज की फिजां बिगाड़ने की लगातार कोशिशें कर रहे हैं। ताजा मामला कासगंज जिले के संवेदनशील गंजडुडवारा का है। यहां अराजक तत्वों ने एक मस्जिद के गेट में आग लगा …

लखनऊ : इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनउ बेंच ने कासगंज में गणतंत्र दिवस के दिन तिरंगा यात्रा के दौरान भड़के दंगे की जांच एनआईए से कराने की मांग ठुकरा दी है। इसके साथ ही कोर्ट ने मृतकों के परिवारजनों को रूपये पचास लाख मुआवजा देने एवं मृतकों को शहीद का दर्जा देने के संबध में कोई आदेश …

कासगंज मामले पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अराजक तत्वों,अपराधी भ्रष्टाचारी कोई भी होगा उसे बख्शा नहीं जाएगा। भटहट से गोरखपुर पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि देश के अंदर विकास और सुशासन हमारा प्रमुख मुद्दा है, और उसी को लागू करने के लिए पूरे प्रदेश के अंदर, हम लोग निकले है, मैं निकला हूं, हमारे मंत्री निकले है, बिना भेद भाव

लखनऊ : मायावती के शासनकाल में एटा से अलग हो कर महज 14 लाख की आबादी वाला जिला कासगंज 26 जनवरी यानि गणतंत्र दिवस से लगातार तीन दिन तक हिंसा की आग में झुलसता रहा। हालात बेकाबू होने पर एडीजी जोन आगरा अजय आनन्द, आईजी रेंज अलीगढ डॉ संजीव गुप्ता के अलावा लखनऊ से आईजी …

कासगंज/लखनऊ: गणतंत्र दिवस के मौके पर तिरंगा यात्रा के दौरान हुए पथराव के बाद कासगंज में भड़की हिंसा तीसरे दिन भी जारी रही, लेकिन शाम तक जनजीवन सामान्य होता दिखा। लोग अपने घरों से बाहर भी निकले। वहीं प्रशासन ने दोनों समुदाय के लोगों को बैठाकर बातचीत की, ताकि इस संकट का समाधान निकाला जा …