kids discipline

जब उन्हें मारेगें या डांटेगी तो अगली बार से वह अपनी बात या गलती को ईमानदारी के साथ शेयर नही करेगें। अगर उनसे गलती हो जाती है तो उनके मन में जो भी है उन्हें वह बेझिझक बोलने दें। उनके अंदर के मासूम बच्चे को कभी भी मरने न दें।