LAC

पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच बीते कई दिनों से चल रहा विवाद अब धीरे-धीरे कम होता नजर आ रहा है। लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के पास दोनों देशों की सेनाएं धीरे-धीरे पीछे हट रही हैं।

पूर्वी लद्दाख में सीमा विवाद को लेकर 6 जून को भारत और चीनी सैन्य अधिकारियों के बीच 5.30 घंटे बातचीत हुई। यह बातचीत सकारात्मक रही है। यह जानकारी भारत में चीन के राजदूत सुन विडोंग ने चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग के हवाले से दी है।

भारत-चीन के मसले पर सुबेदार रि पवन सिंह संस्थापक जयहिन्द युवा सेना ने बताया चीन सीमा की लाइन आफ ऐक्चुवल कंट्रोल (LAC) पैंगांग, त्सो और गवालन घाटी में भारतीय सेना और चीन की पब्लिक लिबरेशन आर्मी (PLA) के बीच तनाव मई से चल रहा है।

पिछले एक महीने से पूर्वी लद्दाख में लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) के पास भारत-चीन के बीच बना विवाद अब सुलझता नजर आ रहा है। भारत और चीन के सैन्य कमांडरों के बीच शनिवार को हुई बैठक सकारात्मक रही।

 भारत और चीन के बीच शनिवार को लद्दाख में लाइन ऑफ एक्च्यूअल कंट्रोल के पास कंमाडर लेवल की वार्ता हुई। ऐसे में दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों के बीच बैठक लगभग 5.30 घंटों तक चली।

पैंगोंग त्सो झील के पास झगड़े के बाद से भारतीय और चीनी सैनिकों के लद्दाख में एलएसी के पास कई प्वाइंट्स पर तनाव की स्थिति बनी।

एलएसी के पास तनाव दोनों देशों के बीच बने सीमा विवाद को हल करने के लिए शनिवार को एक अहम बैठक होने वाली है। लेकिन इस बैठक से पहले चीन भारत को डराने की कोशिश में जुटा है।

लद्दाख में एलएसी पर चीन और भारतीय सैनिकों के बीच हुई हाथापाई के बाद दोनों देशों की सेनाओं ने सैनिकों की तैनाती बढ़ा दी। गलवान नदी घाटी क्षेत्र में दोनों तरफ सैनिक अपने-अपने क्षेत्रों में कैम्प बना रखे हैं।

भारत और चीन के बीच लद्दाख के पास लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) पर तनाव के बीच दोनों देशों में डिविजनल कमांडर स्तर की बातचीत हुई है। इस बातचीत में मेजर जनरल रैंक के अधिकारी शामिल रहे।

लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर चीन के आक्रामक रवैये के कारण काफी तनाव बना हुआ है। दोनों देशों की सेनाएं आमने सामने हैं। ऐसे में पूर्वी लद्दाख में LAC के पास 30-35 किलोमीटर दूर चीनी सेना के लड़ाकू विमानों के उड़ान भरने से तनाव और बढ़ गया है।