ladakh

भारत और चीन के बीच लद्दाख में सीमा विवाद का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। चीन एक तरफ सैन्य वार्ता का दिखावा कर रहा है और दूसरी तरफ भारत को हमला बोलने की तैयारियों में जुटा है।

बीते कई दिनों से पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच चल रहा विवाद अभी भी जारी है। साथ ही चीनी सेनाओं को अप्रैल के पहले वाली अवस्था पर ले जाने के लिए कूटनीतिक-सैन्य स्तर की बातचीत चल रही है।

लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीनी सैनिकों के बीच हुई हिंसक झडप के बाद दोनों देशों के बीच तनाव बरकरार है। दोनों देशों के बीच लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर तनाव जारी है।

एलएसी पर जारी विवाद के बीच मंगलवार को चीन की ओर से पूर्वी लद्दाख के कुछ विवादित बिंदुओं से अपनी सेनाओं की वापसी को लेकर बयान आए।  भारत चीन पर पूरी तरह से भरोसा नहीं कर सकता है भारत पांचवे दौर की कोर कमांडर की बैठक में अपनी बात मजबूती से चीनी के सामने रखेगा।

बीजिंग: भारत चीन सीमा विवाद से जुड़ी आज एक बड़ी खबर सामने आई है। जिसमें चीन की तरफ से ये दावा किया गया है कि लद्दाख में विवादित स्थान से डिसएंगेजमेंट का काम पूरा कर लिया है। चीन के अखबार ग्लोबल टाइम्स में इस पर एक विस्तृत रिपोर्ट छपी है। रिपोर्ट में चीनी विदेश मंत्री …

फ्रांस से राफेल फाइटर जेट्स का पहला बैच आने से भारतीय वायुसेना की ताकत कई गुना बढ़ जाएगी।

पूर्वी लद्दाख के अक्साई चीन में चीनी सैनिकों की तैनाती बढ़ा दी गयी है। जवाब में भारत ने भी सेना को बढ़ा दिया मिसाइल दागने वाली T-90 टैंक्स को तैनात किया है।

सीमा विवाद को लेकर भारत से बातचीत करने के बाद चीन अपनी बातों से पलट गया है। उसने फिर से वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर अपनी गतिविधियां तेज कर दी है।

नई दिल्ली: भारत और चीन के बीच अभी भी सीमा पर तनाव जारी है। हालांकि भारतीय और चीनी सेना के कोर कमांडर्स के बीच हुई बैठक के बाद चीन कई इलाकों से पीछे हटने पर सहमत हो गया है, लेकिन अभी भी कुछ ऐसे इलाके हैं, जहां पर चीन बना रहना चाहता है। पैंगोंग लेक …

सीमा विवाद को लेकर भारत से बातचीत करने के बाद चीन अपनी बातों से पलट गया है। उसने फिर से वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर अपनी गतिविधियां तेज कर दी है।