lal krishna advani

आज के समय में देशभर में लॉकडाउन लगा हुआ है। ऐसे में बॉलीवुड और टीवी इंडस्ट्री पर पूरी तरह से ताला लग गया है। नई फिल्मों और टीवी शोज के आभाव में जनता पुराने शोज को वापस लाने का आग्रह कर रही है और ऐसे में रामानंद सागर के पॉपुलर शो रामायण की डीडी चैनल पर वापसी हो गई है। इसकी टीआरपी भी आसमान छू रही है। 8

देश की सत्ता पर काबिज भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के गठन के आज 40 ऐतिहासिक साल पूरे हो गए हैं। इस दौरान पार्टी ने शून्य से शिखर तक का जो सफर तय किया है वो कई मायनों में ऐतिहासिक रहा है।

अयोध्या रामजन्म भूमि- बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद राम जन्मभूमि आंदोलन से जुड़े प्रमुख हिंदू नेताओं ने विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के दिवंगत नेता अशोक सिंघल और बीजेपी के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी के योगदान की सराहना की।

सियासत में हिंदुत्व का ताना-बाना बुनकर भाजपा लोगों के बीच पैठ बनाने में जुटी गई। अयोध्या आंदोलन ने भाजपा को कई कोहिनूर दिए या कहें दिग्गजों ने राममंदिर आंदोलन के जरिए देश की सियासत में खुद को स्थापित किया।

पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन पर पूरे देश में शोक की लहर है। दिल का दौरा पड़ने आने के बाद मंगलवार देर रात उनका निधन हो गया। सुषमा स्वराज को श्रद्धांजिल देने पहुंचे बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी भावुक हो गए और वह अपने आसुओं को नहीं रोक पाए।

जम्मू-कश्मीर को लेकर चल रही तमाम कयासों पर सोमवार को विराम लग गया। केंद्र की मोदी सरकार ने ऐतिहासिक और अभूतपूर्व फैसला लेते हुए जम्मू-कश्मीर को विशेष अधिकार देने वाले अनुच्छेद 370 को खत्म कर दिया है।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने आगे लिखा कि, "हर व्यक्ति को उसके शरीर की बनावट के आधार पर किसी अच्छे वैद्य के मार्ग दर्शन में ही योग आसन करना चाहिए, वरना आसन से उसका नुक्सान भी हो सकता है।

भाजपा के सलेमपुर लोकसभा क्षेत्र की विजय संकल्प रैली में भाग लेने आये कृषि मंत्री और भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शाही ने मंगलवार की शाम कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से कहा कि भाजपा ने परिस्थितियों के मद्देनजर जोशी को टिकट से वंचित किया है

लोकसभा चुनावों के मद्देनजर राजनीतिक दल अपने सियासी रणनीतियों को अंतिम रूप देने में जुट गए हैं। खबरें है कि बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी व भुवन चंद्र खण्डूरी इस बार चुनावी समर में ताल नहीं ठोंक सकेंगे।

लाल कृष्ण आडवाणी भारतीय जनता पार्टी के संस्थापक सदस्यों में से हैं। राम मंदिर आंदोलन में उनकी मुख्य भूमिका रही। पार्टी ने उनके संरक्षण में पूरे देश में पहचान बनाई।