latest du admission

दिल्ली यूनिवर्सिटी (डीयू) में सेशन 2017-18 के लिए अंडर ग्रेजुएट कोर्सेज में एडमिशन की प्रक्रिया जल्द ही शुरू होगी। हर साल डीयू रजिस्ट्रेशन प्रॉसेस मई के लास्ट से शुरु होती है, जो जून के मिड तक चलती है। इसके बाद भी कॉलेजों में कट-ऑफ लिस्ट जारी करने, डॉक्यूमेंट वेरीफिकेशन और फाइनल रजिस्ट्रेशन के कारण एडमिशन प्रॉसेस जून, जुलाई और अगस्त तक जारी रहता है।

दिल्ली यूनिवर्सिटी (DU) छात्रों और शिक्षकों को रिसर्च में आगे बढ़ने का मौका दगा। डीयू का मुख्य उद्देश्य है रिसर्च के क्षेत्र में सबको अवसर मिले। साथ ही फैकल्टी और छात्रों को विश्व स्तरीय शोध करने के लिए सहयोग और प्रोत्साहन देना है। इस तरह से ग्रेजुएशन लेवल पर स्टूडेंट्स अंतरराष्ट्रीय सम्मेलनों और कार्यशालाओं में हिस्सा ले सकेंगे।

एसओएल में 1 से 15 सितंबर तक 200 रुपए लेट फीस के साथ एडमिशन लिया जा सकता था। लेकिन बड़ी संख्या में अब भी ऐसे छात्र हैं, जो एडमिशन नहीं ले पाए। ऐसे में प्रशासन ने छात्रों को राहत देते हुए एडमिशन की डेट को बढ़ाया गया है। एसओएल में अब तक लगभग 1 लाख 20 हजार स्टूडेंट्स एडमिशन ले चुके हैं।

नई दिल्ली :  मानव संसाध‍न विकास मंत्रालय (एचआरडी) सेंट्रल यूनिवर्सिटीज में कटऑफ की बजाय कॉमन एंट्रेस टेस्ट के माध्यम से दाखिले की योजना बनने जा रही है। एचआरडी मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि दाखिला इस नए सिस्टम का फॉर्मेट तैयार करने के लिए  एक्सपर्ट की टीम जल्द ही काम करना शुरू करेगी। छात्रों को …

अंग्रेजी ऑनर्स प्रोग्राम में सबसे कम करीब ढाई हजार छात्रों ने एडमिशन लिया है। एसओएल में बिना लेट फीस के बुधवार तक दाखिला का अंतिम दिन था। अब भी छात्र लेट फीस 200 रूपए के साथ 1 से 15 सितंबर तक एडमिशन ले सकेंगे। गौरतलब है कि रेगुलर कॉलेज में एडमिशन अब समाप्त हो गए है। प्रशासन को उम्मीद है कि अब एसओएल में दाखिले की रफ्तार बढ़ सकती है। आने वाले दिने में बीते सालों के एडमिशन का रिकार्ड टूटने के आसार है।

डीयू के विभिन्न कॉलेजों में विभिन्न वर्गों की सीटें भरने के लिए शुरूआत में 5 कटऑफ जारी कर उसके बाद मेरिट से दाखिले लेने का फैसला किया था। इस प्रक्रिया के बाद भी लगभग सात हजार से अधिक सीटें खाली रहने पर प्रशासन ने अगस्त के दूसरे हफ्ते में तीन और कटऑफ जारी की। आठ कटऑफ जारी होने के बावजूद भी सीटें खाली रह गई है। अब यह सीटें खाली रहने पर भी मंगलवार के बाद से नहीं भरी जाएंगी। जून से चली आ रही दाखिले की दौ़ड़ अब पूरी तरह से समाप्त हो गई है। दाखिले की तारीख पहले से ही 31 अगस्त तय थी लिहाजा अब तिथि को आगे नहीं बढ़ाया जाएगा।

छात्रों को इस कटऑफ में भी बीकॉम ऑनर्स, बी.कॉम, इतिहास और अंग्रेजी में एडमिशन के मौके है। अब डीयू प्रशासन खाली सीट रहने पर भी एडमिशन प्रॉसेस को आगे नहीं बढ़ाएगी। इस कटऑफ में एडमिशन नहीं लेने वाले को अब अगले साल ही दाखिले का मौका मिल पाएगा। आठवीं कटऑफ डीयू की वेबसाइट पर उपलब्ध है।

डीयू की कटऑफ के अनुसार दिल्ली कॉलेज ऑफ कॉमर्स एंड ऑर्ट्स कॉलेज में अंग्रेजी में 91.50 पर्सेंट, भारती कॉलेज में 85 फीसदी, देशबंधु में 90 प्रतिशत, दयाल सिंह कॉलेज सुबह की शिफ्ट में 88.50 अंक और शाम में 86 फीसदी पर एडमिशन मिल सकता है।।

डीयू में 5 कटऑफ के बाद करीब 7000 सीटें खाली थीं। इसी कारण तीन और कटऑफ निकालने का फैसला लिया गया। छठवीं कटऑफ 20 अगस्त को निकाली गई और उसी दिन से दाखिले शुरू हुए। सभी कॉलेजों में रिजर्व्ड कैटिगरी की सीटें ज्यादा खाली हैं। अधिकतर कॉलेजों का कहना है कि रिजर्व्ड सीटें के लिए 6वीं लिस्ट में भी ज्यादा दाखिले नहीं हुए हैं। कई कॉलेजों में दाखिले हुए, लेकिन कुछ विदड्रॉल भी हुए है।

नई दिल्ली : दिल्ली यूनिवर्सिटी (डीयू) के नॉन कॉलिजिएयेट वूमेन एजुकेशन बोर्ड (एनसीवेब) की पांचवीं कटऑफ लिस्ट मंगलवार को जारी हुई। एडमिशन के लिए स्टूडेंट्स के पास ये आखिरी मौका था। एनसीवेब की लगभग 11,000 से अधिक सीटों के लिए 8,000 से अधिक एडमिशन हो गए। इस तरह से 25 सेंटरों पर अब भी लगभग …