latest political news

ताजा राजनीतिक बयानबाजी से साफ है कि आने वाले दिनों में महाराष्ट्र की सियासत में बड़ा बदलाव दिख सकता है। शिवसेना की कार्यशैली से केवल कांग्रेस ही नहीं बल्कि एनसीपी के नेता भी भीतरी तौर पर काफी नाराज बताए जा रहे हैं।

भाजपा अध्यक्ष जेपी नढढा पर हुए हमले को लेकर केन्द्र सरकार और पष्चिम बंगाल के बीच रार बढती जा रही है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने उनकी सुरक्षा के लिए जिम्मेदार राज्य के तीन आइपीएस अधिकारियों को केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर बुलाने के लिए गुरुवार को फिर से आदेश जारी किया।

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के इस आरोप पर बीजेपी की तरफ से प्रतिक्रिया आई है। प्रदेश अध्यक्ष सतीश पुनिया ने कहा कि इनकी सरकार में इतना झगड़ा है कि यह बीजेपी के नेताओं को दोष दे कर अपना झगड़ा छुपाना चाहते हैं।

मई 2021 में पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव होना है, ऐसे में भारतीय जनता पार्टी ने अभी से ही आक्रामक रवैया अपनाया हुआ है। बंगाल में बीजेपी की ओर से 200 सीटें जीतने का लक्ष्य रखा गया है।

बीजेपी सांसद सौमित्र खान ने इससे पहले कहा था कि ऐसी संभावना है कि राज्यपाल जगदीप धनखड़ मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से राज्य विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए कह सकते हैं।

उन्होंने ट्विटर पर लिखा है कि वह आज दोपहर 3 बजे अपने घर पर ही प्रेस कान्फेंस बुला रही हैं। जिसमें वह विभिन्न मुद्दों के बारे में पत्रकारों से बात करेंगी। उन्होंने पत्रकारों को इस वार्ता में शामिल होने के लिए कहा है।

हैदराबाद में नगर निगम चुनाव को लेकर सियासी पारा गर्माने लगा है। बीजेपी इस बार पूरी तैयारी के साथ टीआरएस और ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के बीच चुनावी मैदान में उतर चुकी है।

महबूबा मुफ्ती अपने बयानों को लेकर कभी अपनी ही पार्टी के नेताओं के निशाने पर आ जाती हैं तो कभी उनके पार्टी के नेता पीडीपी को हाइजैक किये जाने का आरोप लगाकर खुद ही उनकी पार्टी छोड़ देते हैं।

महाराष्ट्र की राजनीति में एक बार फिर राजनीति हलचल तेज़ हुई है। केंद्रीय मंत्री रावसाहेब दानवे पाटिल ने ये दावा किया है कि राज्य में बहुत जल्द बीजेपी सरकार बन सकती है। इसी बात पर पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने अपनी प्रतिक्रिया दी है।

बसपा सुप्रीमो मायावती रविवार को संगठन की अहम बैठक करने जा रही हैं इस बैठक में देशभर के प्रदेश अध्यक्षों के साथ वरिष्ठ पदाधिकारियों को बुलाया गया है। ऐसा माना जा रहा है कि हाल में होने वाले विधानसभा उप चुनाव और 2022 में यूपी में होने वाले विधानसभा चुनाव में मजबूती से उतरने की रणनीति पर इस बैठक में चर्चा होगी।