letter

साजिश के इस खत से महंत परिवार परेशान है। महंत विश्वम्भरनाथ मिश्रा ने इस घटना के बाबत एसएसपी और अन्य पुलिस अधिकारियों से भी बात की। उनके मुताबिक पिछले कुछ दिनों से कुछ लौटानी पत्र मिल रहे थे।

कोरोना संकट के बीच मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का पहला साल आज शनिवार को पूरा हो गया है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता के नाम पत्र लिखा है। इस पत्र में पीएम मोदी ने पिछले 1 साल की सरकार की उपलब्धियों के बारे में बताया है।

देश में सिर्फ पीएम मोदी ही नहीं, कोरोना वायरस को लेकर दुनिया के दूसरे देशों के राष्ट्राध्यक्ष भी अपने नागरिकों से अपील कर रहे हैं कि वे घर से बाहर न निकलें। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन जो खुद  कोरोना वायरस से पीड़ित है। अपने देश के 3 करोड़ परिवारों से भावुक अपील की है। उ

देश में इस वक्त  कोरोना वायरस के मरीजों के आंकड़ों में हर दिन इजाफा देखने को मिल रहा है।  यहां कोरोना वायरस का कहर बढ़ रहा है। वहीं डॉक्टर्स लगातार कोरोना वायरस के मरीजों से दो-चार हो रहे हैं। इस बीच डॉक्टर्स को कई तरह की समस्याओं का सामना भी करना पड़ रहा है।

मध्यप्रदेश की सत्ता के संकट को टालने और बेंगलुर में रूठकर बैठे बागी विधायकों को मनाने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने अपने करीबी रहे बागी विधायक..

मध्य प्रदेश का सियासी घमासान बढ़ता ही जा रहा है। प्रदेश की सियासी लड़ाई भोपाल से लेकर बेंगलुरु और सुप्रीम कोर्ट तक पहुंच गई है। सोमवार को जब विधानसभा में बहुमत परीक्षण नहीं हो पाया।

महाराष्ट्र में बीजेपी ने एनसीपी नेता और शरद पवार के भतीजे अजीत पवार के साथ मिलकर सरकार बना ली है। देवेंद्र फडणवीस ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली और अजित पवार ने उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली आज अपना 31वां जन्मदिन मना रहे हैं। विराट के बर्थडे के मौके पर उनके फैन्स और उनके दोस्त उनको विश कर रहे हैं

जनपद कौशाम्बी के कोखराज थाना क्षेत्र के मूरतगंज कस्बे की रहने वाली साजिदा बेगम मंझनपुर ने थानाध्यक्ष पर उत्पीड़न का आरोप लगाया है। उन्होंने मुख्यमंत्री को अपने खून से पत्र लिखकर न्याय की गुहार लगाई है।

मुख्यमंत्री ने जनप्रतिनिधियों को लिखे पत्र में कहा है कि ऐसे बच्चों के परिवार के किसी एक सदस्य को कौशल विकास व रोजगार परक शिक्षा से जोड़ने के साथ ऐसे परिवारों के भोजन, आवास एवं स्वास्थ्य की भी समुचित व्यवस्था की जानी चाहिए। जिससे ये भरण-पोषण के लिए अपने बच्चों की आय पर निर्भर न रहे।