Lock Down

लॉकडाउन में प्रवासियों को कई प्रकार की कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। काम बंद हो जाने की वजह से करीब दो महीने से इनको रहने, खाने तक के लाले पड़ गए हैं। अब यह मजबूरन बिहार सहित दूसरे राज्यों में अपने घरों की ओर पलायन करने लगे हैं।

लखनऊ में बाजार खुलने के बाद जिला प्रशासन ने एक और राहत दी है। जिलाधिकारी और पुलिस कमिश्नर की बैठक के बाद सभी शॉपिंग काम्प्लेक्स खोले जाने के लिए मंजूरी मिल गई है। यहां 26 मई से कॉम्प्लेक्स खोले जा सकेंगे लेकिन मॉल अभी भी बंद रहेंगे।

25 मई से देश में घरेलू उड़ानों की सेवा शुरू हो जाएगी। इसके लिए दिल्ली में तैयारियां पूरी हो गई हैं वहीं कोरोना संक्रमण से देश में सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र ने अभी इसे अनुमति नहीं दी है। महाराष्ट्र सरकार का कहना है वह 25 मई से विमान सेवा नहीं शुरू कर सकती।

उत्तर मध्य रेलवे द्वारा श्रमिक विशेष ट्रेनों के परिचालन को सर्वोच्च प्राथमिकता प्रदान की जा रही है। प्रवासियों और अन्य फंसे व्यक्तियों के त्वरित परिवहन के लिए इन ट्रेनों के संचालन को दैनिक आधार पर बढ़ाया जा रहा है।

कुलपति प्रो. वैशम्पायन आज एसपी सिटी राहुल श्रीवास्तव द्वारा संयुक्त रूप से बुन्देलखण्ड विश्वविद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना की विभिन्न ईकाईयों के स्वयंसेवकों द्वारा कोरोना से बचाव हेतु बनाये गये दस हजार मास्कों के उद्घाटन के अवसर पर आयोजित ऑनलाइन कार्यक्रम में प्रतिभाग कर रहे कार्यक्रम अधिकारियों तथा स्वयंसेवकों को सम्बेाधित कर रहे थे।

लॉकडाउन में छूट का बेवजह इस्तेमाल खतरे की घंटी बजा रहा है। सीतापुर में 20 मई से सुबह 11 से शाम पांच बजे तक दुकानें खोलने और खरीददारी करने की छूट दी गई है, लेकिन इस दौरान नियमों की धज्जियां उडाते हुए जिस तरह बिना मास्क के बाजारों में भीड उमड रही है

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लाॅकडाउन के नियमों का सख्ती से पालन कराने के निर्देश देते हुए कहा कि प्रभावी पेट्रोलिंग से यह सुनिश्चित किया जाए कि कहीं भी भीड़ एकत्र न होने पाए।

घरेलू उड़ान सेवाएं 25 मई से शुरू करने की घोषणा के तीन दिन बाद नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने आज कहा कि हम अगस्त से पहले अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को फिर से शुरू करने की कोशिश करेंगे।

यूपी अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने दावा किया है कि देश में सबसे अधिक प्रवासी कामगार उत्तर प्रदेश में आये हैं। उन्होंने बताया कि विभिन्न माध्यमों से अब तक 20 लाख प्रवासी कामगार व श्रमिक प्रदेश में आ चुके हैं। प्र

लॉकडाउन में हजारों लोग अलग-अलग शहरों में फंसे हैं। लोगों की परेशानियों को देखते हुए रेलवे ने 1 जून से पैसेंजर ट्रेन चलाने का निर्णय लिया है। इसी के तहत वाराणसी से भी कुछ महत्वपूर्ण ट्रेनों का संचालन होने जा रहा है, जिसमें शिवगंगा, महानगरी और साबरमती एक्सप्रेस शामिल हैं।