#LokSabhaElection2019

इन बहुप्रतीक्षित कानूनी सुधारों को अमली जामा पहनाने में सबसे बड़ी बाधा राज्यसभा में राजग का बहुमत नहीं होना है। राज्यसभा में निर्णायक ताकत बनने के लिए राजग को राज्यों में कायम अपनी सरकारों को सत्ता में बनाये रखना होगा।

कैबिनेट सचिव और राज्य सरकारों के मुख्य सचिवों से आयोग ने कहा है कि आचार संहिता को तत्काल प्रभाव से हटा लिया गया है।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री व आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव की तबीयत बिगड़ती जा रही है। लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद लालू ने दिन का खाना छोड़ दिया है। वो रात का खाना भी मुश्किल से ही खा रहे हैं।

लोकसभा चुनाव परिणाम को ऐतिहासिक करार देते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने शनिवार को कहा कि देश के लोकतंत्र को ‘परिवारवाद’, ‘जातिवाद’ और ‘तुष्टीकरण’- इन तीन नासूरों ने डसा हुआ था और 2019 के जनादेश ने इन नासूरों को राजनीति से बाहर निकाल दिया है।

यूपी के लोकसभा चुनाव परिणामों में सपा बसपा गठबन्धन को भले ही बडा लाभ न मिला हो लेकिन इस महागठबन्धन ने मुस्लिम समाज को प्रतिनिधित्व जरूर दे दिया।

सपाध्यक्ष ने कहा कि भाजपा झूठ और गलत तथ्य बताती है, वहीं समाजवादियों के पास ऐसी विचारधारा है, जो उनका मार्गदर्शन करती है। युवा गंभीर संकट में हैं, इसलिए हमें कॉलेजों, यूनिवर्सिटीज तक अपनी पहुंच बनानी होगी।

वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में कई दिग्गज नेताओं की हार हुई।  इनमें कांग्रेस के दिग्गज नेता और राहुल गांधी के करीबी ज्योतिरादित्य सिंधिया भी गुना से हार गए।

समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने जहां भाजपा के दिनेश लाल यादव निरहुआ को 2,59,874 मतों से हरा दिया। वहीं लालगंज में गठबंधन की प्रत्याशी संगीता आजाद ने भाजपा की नीलम सोनकर को 1,61,597 मतों से हराया। जिससे समर्थक खुश तो दिखे लेकिन प्रदेश में मिली हार से उन्हे निराशा हाथ लगी।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि जनमत स्वीकार! उत्तर प्रदेश की सम्मानित जनता और तमाम कार्यकर्ताओं का धन्यवाद। जबकि मतगणना के एक दिन पहले ही उन्होंने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा था कि कल जब जनादेश आएगा, भाजपा का सारा अहंकार मिट जाएगा।

पार्टी के कई नेताओं का ऐसा विचार है कि शाह, मोदी मंत्रिमंडल में शामिल होंगे और उन्हें गृह, वित्त, विदेश या रक्षा में से कोई एक मंत्रालय दिया जा सकता है । वित्त मंत्री अरूण जेटली और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के समक्ष स्वाथ्य संबंधी समस्याएं हैं । ऐसे में उनके नई सरकार में शामिल होने को लेकर शंकाएं हैं ।