maa kushmanda

लखनऊ: नवरात्रि में चौथे दिन देवी के रूप कूष्मांडा  की पूजा की जाती है। ब्रह्मांड को जन्म देने के कारण इस देवी को कूष्मांडा कहा जाता है। जब सृष्टि नहीं थी, चारों तरफ अंधकार ही अंधकार था, तब इसी देवी ने अपने हास्य से ब्रह्मांड की रचना की थी। इसीलिए इसे सृष्टि की आदि स्वरूपा …

लखनऊ: कहते है कि अगर सच्चे मन से भक्ति करो तो मां दुर्गा जरूर दर्शन देती हैं। ऐसी ही कुछ मान्यता लखनऊ के चौक में स्थित संधोहरण या संदोहन देवी मंदिर की है। यहां माता रानी के चरणों का अलग ही महत्व है। नवरात्रि में देवी के सभी रूपों का श्रृंगार किया जाता है। यह …

कानपुर: कानपुर शहर से करीब साठ किलोमीटर दूर घाटमपुर में मां कुष्मांडा देवी का अद्भुत मंदिर है । जहां माता रानी मंदिर में एक पिंड के रूप में लेटी हुई मुद्रा में है। देवी के चौथे अवतार मां कुष्मांडा के पिंड से पानी रिसता रहता है। यहां जल रिसनेे का क्या रहस्य इसका अब तक कुछ पता …

लखनऊ: नवरात्रि में चौथे दिन देवी के रूप कूष्मांडा  की पूजा की जाती है। ब्रह्मांड को जन्म देने के कारण इस देवी को कूष्मांडा कहा जाता है। जब सृष्टि नहीं थी, चारों तरफ अंधकार ही अंधकार था, तब इसी देवी ने अपने हास्य से ब्रह्मांड की रचना की थी। इसीलिए इसे सृष्टि की आदि स्वरूपा …

लखनऊ: कहते है कि अगर सच्चे मन से भक्ति करो तो मां दुर्गा जरूर दर्शन देती हैं। ऐसी ही कुछ मान्यता लखनऊ के चौक में स्थित संधोहरण या संदोहन देवी मंदिर की है। यहां माता रानी के चरणों का अलग ही महत्व है। नवरात्रि में देवी के सभी रूपों का श्रृंगार किया जाता है। चरणों …