mafia mukhtar ansari

बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी की मुसीबतें थमने का नाम नहीं ले रही हैं। आये दिन मुख्तार अंसारी व उनसे जुड़े लोगों के संपत्तियों के उपर प्रशासन का बुल्डोजर चल रहा है।

बाहुबली विधायक मुख़्तार अंसारी के खिलाफ पुलिस का शिकंजा लगातार बढ़ता जा रहा हैं। मऊ और गाज़ीपुर के बाद अब वाराणासी में भी मुख्तार के करीबियों की अवैध सम्पत्ति पर सरकार की नजर हैं।

आरोप है कि उसने बिना वैध नक्शे के तीन मंजिला इमारत को बनवाया था, जिसके सम्बन्ध में साल 2004 से ही मुकदमा विचाराधीन था। इस मामले में 27 अगस्त को ध्वस्तीकरण का पारित हुआ था

जेल में बंद कुख्यात माफिया मुख्तार अंसारी की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही है। उनके सामने एक नई मुसीबत आ गई है। पिछले कई बार से विधायक एवं माफिया मुख्तार अंसारी की विधानसभा सदस्यता अब सवालों के घेरे में है।

विधायक के लेटर पैड पर प्रियंका को संबोधित करते हुए साफ तौर पर कांग्रेसी नेतृत्व और पंजाब की कैप्टन सरकार को संबोधित करते हुए अल्‍का ने लिखा है-

उन्होंने आज बातचीत करते हुए योगी सरकार पर बड़ा हमला किया है । उन्होंने कहा है कि बसपा विधायक मुख्तार अंसारी पर उसुरी में गत 15 जुलाई 2001 को जानलेवा हमला हुआ था ।

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने जब से बाहुबली मुख्तार अंसारी पर शिकंजा कसा है तब से उसकी हालत लगातार खराब हो रही है। आर्थिक साम्राज्य और कारोबार तो पहले ही यूपी पुलिस ने छिन्न-भिन्न कर दिया है

यूपी में सरकार बदलते ही मुख्तार ने खतरा भांप लिया था और एक धमकी के मामलें में पंजाब की जेल में चले गए। अब यूपी पुलिस मुख्तार गैंग पर कार्रवाई तो कर रही है लेकिन मुख्तार उसकी पहुंच से बाहर है।

इन दिनों उत्तर प्रदेश भर में माफियाओं व अपराधियों के विरूद्ध चल रहें अभियान के अंर्तगत शहर कोतवाली थाने में गैंगस्टर एक्ट में वांछित चल रहें आईएस-191 गैंग लीडर मुख्तार अंसारी है। जिस गैंग के यह लोग सदस्य हैं।

यूपी के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के खिलाफ कार्रवाई की जद में आये उनके परिवार के सदस्यों पर भी अब पुलिस की नजरें टेढ़ी है।