mahatma gandhi

आज कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष नारायण गणेश चंदावरकर की आज जयंती है। चंदावरकर का जन्म आज के ही दिन 2 दिसंबर, 1855 को बॉम्बे प्रेसीडेंसी के उत्तरी कनारा जिले के होनवर में हुआ था।

आज की पीढ़ी के लोग ठक्कर बापा को नहीं जानती कोई बड़ी बात नहीं है। चलिये हम आपको बताते हैं। ठक्कर बापा का जन्म 29 नवंबर, 1869 को भावनगर (सौराष्ट्र) में हुआ था।

कुछ महीने पहले ब्लैक लाइव मैटर्स के प्रदर्शनकारियों ने अनेक प्रतिमाओं और स्मारकों को नुकसान पहुंचाया था और एक प्रतिमा ढहा तक दी थी।

महात्मा गांधी के परपोते सतीश धुपेलिया का कोविड संक्रमण के चलते निधन हो गया। सतीश धुपेलिया तीन दिन पहले ही 66 वर्ष के हुए थे। इस बात की जानकारी उनके परिवार वालों ने दी।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की हत्या के दोषी नाथूराम गोडसे को आज ही के दिन (15 नवंबर 1949) को फांसी दी गई थी। अखिल भारत हिंदू महासभा आज के दिन को बलिदान दिवस के रूप में मनाती है।

महामना का जन्म 25 दिसंबर 1861 को इलाहाबाद में हुआ और शिक्षा-दीक्षा कलकत्ता विश्वविद्यालय में। पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने शिक्षक की नौकरी की, वकालत की और एक समाचार पत्र का संपादन भी किया।

दांडी मार्च चौराहा स्थित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं उनके साथियों की प्रतिमा पर मंडल रेल प्रबंधक सहित सभी अधिकारियों द्वारा बारी बारी से माल्यार्पण किया गया ।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गांधी आश्रम जाकर वहां चरखा भी चलाया। इस दौरान भाजपा उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह, कैबिनेट मंत्री ब्रजेश पाठक तथा लखनऊ की मेयर संयुक्ता भाटिया और भाजपा लखनऊ के नेता भी मौजूद थे।

गांधी जी के विचारों की प्रासंगिकता समय के साथ-साथ और भी बढ़ती जा रही है। विश्व में पर्यावरण संरक्षण का मुद्दा इन दिनों तेजी से समाज की प्राथमिकता बनता जा रहा है।