mayawati

चंद्रशेखर ने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश में दलितों पर अत्याचार बहुत अधिक बढ़ गए हैं उत्तर प्रदेश दलितों के लिए सुरक्षित नहीं है, जंगल प्रदेश बन गया है.

पिछले साल बसपा सुप्रीमों मायावती भी अपने भतीजे आकाश को राजनीति में आगे बढ़ाने का प्रयास कर रही हैं। पिछले साल उन्होंने फरवरी महीने में उन्हे कई सांगठनिक जिम्मेदारियां सौंपने का काम किया है।

वहीं दूसरी तरफ बसपा के भिनगा विधायक असलम राईनी भी कह चुके हैं कि जल्द ही एक नया दल प्रदेश की राजनीति में दिखाई देगा। यहां यह भी बताना जरूरी है

यूपी बजट सत्र में राज्यपाल के अभिभाषण से पहले बसपा के आधा दर्जन से अधिक विधायक विधानसभा अध्यक्ष से मुलाकात करके सदन में अलग बैठाने की व्यवस्था करने की मांग करेंगे।

अखिलेश ने यादव ने ट्रैक्टर परेड हिंसा के लिए बीजेपी को जिम्मेदार बताया है। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार ने जिस तरह किसानों की लगातार उपेक्षा की, उसी वजह से किसानों की नाराजगी आक्रोश में बदली।

कैमूर के चैनपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीतने वाले बसपा के इकलौते विधायक मोहम्मद जमा खान के पार्टी छोड़ने को मायावती के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है।

विधान परिषद के चुनाव में एक सीट पर जीत हासिल करने के लिए करीब 32 वोटों की जरूरत पड़ेगी। अगर किसी को प्रथम वरीयता के 32 वोट ना मिले, तो दूसरी वरीयता के वोटों से फैसला होगा। ऐसे में भाजपा को अपना 11वां प्रत्याशी उतारने से पहले काफी मंथन करना होगा।

बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती ने कहा कि बसपा बिहार की तरह उत्तर प्रदेश और उत्तराखण्ड में होने वाले विधानसभा के आम चुनाव में किसी भी दल से गठबंधन नहीं करेगी और अपनी सरकार बनाएगी।

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने कहा कि पार्टी कार्यकर्ता एक बार फिर 2022 के विधानसभा चुनाव में 2007 की तरह ही सरकार बनाने का काम करें।

कोरोना वैक्सीन को भाजपाई बताकर समाजवादी पार्टी यूपी की राजनीति में अलग-थलग पड़ गई है। विपक्षी दल भी इस मुद्दे पर सपा के साथ आने को तैयार नहीं हैं।