Migrant labor

लॉकडाउन के बाद बड़ी तादात में प्रवासीय मजदूर अपने गांव वापिस आये थे। गांव वापिसी के समय उन सबने तय किया था कि अब वह शहर नहीं जायेगे।

कोरोना से जंग जीतने के लिए घोषित लॉकडाउन के दौर में घर लौटने वाले श्रमिक एक बार फिर काम की तलाश में महानगरों की ओर लौटने लगे हैं। दिल्ली, मुंबई और गुजरात...

देश भर में कोरोना के बढ़ते कहर के बीच गांवों में एक नया संकट पैदा हो गया है। प्रवासी मजदूरों की वापसी से कोरोना केसों में बढ़ोतरी देखी जा रही है और नए संक्रमण का खतरा भी बढ़ गया है।

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रवासी मजदूरों की समस्या को लेकर एक बार फिर से केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधा है। सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार से प्रवासी मजदूरों के लिए खजाना खोलने की गुहार लगाई है।

प्रवासी मजदूरों के मुद्दे पर केंद्र और ममता सरकार के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर और तेज हो गया है। अब पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को रेल मंत्रालय पर गंभीर आरोप लगाए हैं।

प्रवासी मजदूरों को उनके गंतव्य तक पहुंचाने के लिए हर रोज सैकड़ों की तादाद में श्रमिक स्पेशल ट्रेन चलाई जा रही है। लेकिन इन ट्रेनों में से कुछ ऐसी भी हैं, जो मजदूरों को बहुत देर से उनके गंतव्य तक पहुंचा रही है।

इन सबके बीच मैंने बस यही अनुभव किया कि भारत मे सरकारे आएंगी और जाएंगी लेकिन इन लोगो का समय ना बदला है और ना ही बदलेगा। बस ये लोग अपने जीवन की अच्छी कल्पना की उम्मीद में जीवन भर चलते ही रहेंगे।

सारे कोरोना-युद्ध को उन्होंने एक व्यक्ति का महिमा-मंडन बता दिया और यह आरोप भी ठोक दिया कि केंद्र सरकार सारी शक्ति प्रधानमंत्री कार्यालय में केंद्रित करके संविधान के संघवाद का उल्लंघन कर रही है। यह बात इंदिरा गांधी की बहू के मुंह से सुनने में कितनी हास्यास्पद लगती है।

कोरोना संकट से निपटने के आरम्भिक काल में दुनिया भर की सत्ताओं की दुविधा यह तय करने को लेकर थी कि पहले नागरिकों की जान बचाना ज़रूरी है या कि अर्थव्यवस्था ? अब जैसे-जैसे अर्थव्यवस्था खुल रही है ,दुविधा यह तय करने की हो गई है कि कितना धन किस तरह के नागरिक को बचाने पर खर्च किया जाए !

डीएम अनुज कुमार झा व मुख्य विकास अधिकारी प्रथमेश कुमार विभिन्न प्रदेशों से ट्रेनों (श्रमिक स्पेशल) से आने वाले श्रमिकों/यात्रियों को फैजाबाद जंक्शन पर उतारने, उन्हें भोजन, पानी आदि की सुविधा उपलब्ध कराने तथा सुगमता से गंतव्य तक पहुंचाने हेतु लगाए गए अधिकारियों के साथ की बैठक भी कर रहे हैं।