migrant train

घण्टों की मशक्क्त के बाद अनीता ने एक बच्चे को जन्म दे दिया, आज सुबह जब उनका परिवार लखनऊ रेलवे स्टेशन पर उतरा, तो उनके चेहरे रात का मंजर साफ़ पढ़ा जा सकता था। लेकिन बुरा वक्त बीत चुका था अनीता के चेहरे पर अपने नवजात का चेहरा देखकर मातृत्व की आभा चमक उठी थी।