mistake

आज के समय में कोई भी लड़का अकेला नहीं रहना चाहता है। हर शख्स को जीवन के पलों को यादगार बनाने के लिए एक लड़की की जरूरत होती है। लेकिन लड़कियां जल्द किसी लड़के पर विश्वास नहीं करती है। इसलिए किसी लड़की से दोस्ती करना और उसे अपना बनाना काफी मुश्किलों से भरा होता है।

इन्वेस्टर्स समिट की तैयारियां इतनी जोरों पर हैं की सही गलत भी नहीं देखा जा रहा। लखनऊ में सीएम आवास के ठीक सामने लगे बड़े होर्डिंग में इंदिरा गाँधी प्रतिष्ठान में अंग्रेजी की स्पेलिंग मिस्टेक है। यहाँ INDIRA की जगह INDRIA लिख दिया गया है। जिसकी भी

मेरठ: यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट में परीक्षा के लिए ऑनलाइन पंजीकरण की प्रक्रिया चल रही है। इसके लिए अंतिम तिथि 20 अगस्त है। छात्रों को हाईस्कूल और इंटरमीडिएट पंजीकरण सावधानी पूर्वक करना होगा। गलत हुआ तो इसके लिए संशोधन का मौका नहीं मिलेगा। अपलोड करने से पहले कर ले जांच -बता दें कि …

बागपत: बागपत के बड़ौत कोतवाली क्षेत्र में देर रात एक डॉक्टर के यहा उस वक़त हंगामा मच गया, जब 22 दिन की नन्हीं सी बच्ची को मैच के नशे में चूर कंपाउडर ने ओवरडोज का इंजेक्शन लगा दिया। जिससे इस नन्ही सी बच्ची की तबियत बिगड़ गई। ये हादसा उस वक्त हुआ, जब टीवी पर …

यूपी विधानसभा के इतिहास में पहली बार इस तरह की चूक हुई है कि राज्यपाल के अभिभाषण की सामग्री में ही त्रुटि हो जाए। इस मुददे पर योगी सरकार की खूब किरकिरी हुई है।

आगरा: नोटबंदी के बाद बैंकों की लापरवाही के चलते लोगों के खाते में अरबों रुपए आ रहे है। यूपी के अलावा कई और शहरों में नोटबंदी के बाद लोगों के खातों में अरबों रूपए आए है। अभी कल ही चंडीगढ़ में एक टैक्सी ड्राइवर के जन धन खाते में 9800 खरब रूपए जमा हुए थे। …

चंडीगढ़: तर्कशील चौकी निवासी एक टैक्सी ड्राइवर बलविंदर सिंह की आंखे तब खुली की खुली रह गई, जब उसके जन धन खाते में एक- दो हजार नहीं बल्कि 9800 खरब रूपए जमा हुए ।4नवंबर को उसके मोबाइल में पैसा जमा होने का एसएमएस आया था। एसएमएस आने के बाद बैंक जाकर उसने बैंक मैनेजर को …

लखनऊ: बीएसपी की रैली के दौरान दयाशंकर के परिवार पर अभद्र टिप्पणी के मामले में बीएसपी सुप्रीमो मायावती शुक्रवार को मीडिया के सामने आईं। मायावती ने कहा कि मेरी पार्टी के कुछ लोगों ने मुझसे कहा कि दयाशंकर के परिवार को सबक सिखाने के लिए ऐसा करना जरूरी था। जिससे उनके परिवार को भी दयाशंकर …

लंदनः साल 2003 में तानाशाह सद्दाम हुसैन को अपदस्थ करने के लिए अमेरिका के नेतृत्व में इराक पर हुए हमले में ब्रिटेन का शामिल होना ठीक नहीं था। ये बात एक जांच कमीशन ने कही है। कमीशन के मुताबिक ये फैसला गलत खुफिया जानकारी पर आधारित था। इससे तत्कालीन ब्रिटिश पीएम टोनी ब्लेयर घेरे में …