moon

करवा चौथ आते ही विवाहित महिलाएं रोमांचित हो जाती है। ज्यादातर महिलाएं ये व्रत रखती है और चांद देखन के बाद व्रत तोड़ती है। पति की लंबी उम्र की कामना के लिए रखा जाने वाला करवा चौथ व्रत चंद्रमा को अर्ध्य देने के बाद ही समाप्त होता है तो आखिर क्यों करवाचौथ में चंद्रमा की पूजा होती है?

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भारतीय स्पेस स्टेशन में 15-20 दिन के लिए कुछ अंतरिक्ष यात्रियों के ठहरने की व्यवस्था होगी। अगर इसरो 5 से 7 साल में अपना स्पेस स्टेशन बना लेगा तो वह दुनिया का चौथा देश होगा, जिसका खुद का स्पेस स्टेशन होगा। इससे पहले रूस, अमेरिका और चीन अपना स्पेस स्टेशन बना चुके हैं।

दरअसल, नासा के लूनर रिकॉनिसंस ऑर्बिटर (एलआरओ) अंतरिक्षयान ने 17 सितंबर को चंद्रमा के अनछुए दक्षिणी ध्रुव के पास से गुजरने के दौरान उस जगह की कई तस्वीरें अपने कैमरा मे कैद की है, जहां विक्रम ने सॉफ्ट लैंडिग के जरिए उतरने का प्रयास किया था लेकिन एलआरओसी की टीम लैंडर के

क्या तेजी से चांद से टकराने की वजह से लैंडर को कोई नुकसान पहुंचा है, इस सवाल पर सिवन ने कहा है कि वे अभी इस बात को नहीं जानते हैं। प्रयास किया जा रहा है कि जल्द ही इसका पता चले।

दुनिया के तमाम देश चंद्रमा की खाक छानने में जुटे हैं। भारत भी चंद्रमा के करीब पहुंच गया है। लेकिन अभी तक चंद्रमा के बारे में पूरी और सही जानकारी नहीं आ सकी है।

इस कविता को आपने बचपन में सुना ही होगा, कभी छोटे बच्चों के मामा, कभी इश्क में महबूबा का चांद बना, कभी चलनी से चांद का दिदार हुआ, कभी ईद के चांद की बेसब्री....... आखिर चांद है क्या...

चांद पर पहुंचने के लिए जब पूरा देश तैयार था, पर फिर चंद्रयान-2 बीती देर रात चांद से सिर्फ 2.1 किलोमीटर की दूरी पर आकर अपना रास्ता भटर गया। लेकिन अभी भी इस मिशन को लेकर उम्मीदें जताई जा रही हैं।

ज्योतिष में सभी नौ ग्रहों में सबसे ज्यादा चलने वाला ग्रह है चंद्रमा, जो मन का कारक है। इस ग्रह का किसी  से कोई शत्रुता नहीं होती है। मतलब यह चंद्रमा का मित्र ग्रह  वैसे तो सूर्य  व बुध है लेकिन इसके अलावा भी इस ग्रह की अन्य ग्रहों से कोई शत्रुता नहीं होती है। चंद्रमा मंगल, गुरु, शुक्र व शनि से सम संबंध रखते है। चन्द्र कर्क राशि का स्वामी है।

आज पूरे देश को सिर्फ उस पल का इंतजार है, जब चंद्रयान-2 चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा। भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए आज ऐतिहासिक दिन है। चंद्रयान-2 शुक्रवार की रात डेढ़ से ढाई बजे के बीच चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरेगा।

आज हम बात करते हैं चंद्रमा की, क्या आप को मालूम है चांद की धरती में छिपा हो सकता है ढेर सारा खज़ाना! यह बात अभी तक रहस्य बनी हुई है। क्या इसी लिए सभी चांद पर जाने की तैयारी कर रहे हैं, क्या अभी भी वहां समुद्र मंथन के प्राप्त मूल्यवान धातु या खज़ाना मौजूद है?