Moon Landing

इस मामले पर वैज्ञानिकों का कहना है कि यह बिल्कुल भी अच्छी बात नहीं है। वैज्ञानिकों का ये भी कहना है कि अंतरिक्ष यात्रियों को मिशन पर भेजने से मिशन का खर्चा बढ़ जाता है। ऐसे में लगातार यही प्रयास किया जा रहा है कि अगर कुछ उपकरण को पीछे छोड़ दिया जाए तो इससे अंतरिक्ष यात्रियों को वापस लाना सस्ता तो होता है बल्कि आसान भी हो जाता है।

मिशन चंद्रयान-2 को और खास बनाने के लिए पीएम मोदी इसरो में स्कूली बच्चों के साथ लैंडिंग देखेंगे। चंद्रयान-2 की लैंडिंग को देखने के लिए देश के साथ साथ सभी विदेशों की नजरें बेताब है। खास बात यह है कि चंद्रयान-2 का विक्रम लैंडर चांद का 35 KM दूर चक्कर लगा रहा है।