namaz

देश में कोरोना महामारी से निपटने के लिए लॉकडाउन लगा हुआ है। यह लॉकडाउन 17 मई जारी रहेगा। अब इस बीच दारुल उलूम देवबंद ने नमाज के लिए फतवा जारी कर दिया है।

महाराष्ट्र में कोरोना मरीजों की संख्या 9000 के पार हो गई है। प्रदेश और केंद्र सरकार कोरोना से लड़ने में जुटी है, लेकिन फिर भी कुछ लोग लॉकडाउन तोड़ने में लगे हुए हैं। एक बार फिर पुलिस टीम पर हमले का मामला सामना आया है।

आंध्र प्रदेश के गुंटूर से एक तस्वीर खूब वायरल हो रही है, जो कि लालापेट पुलिस स्टेशन में तैनात करीमुल्ला असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर की है। ASI अपने ड्यूटी के साथ-साथ रोजा भी रखे रहे हैं।

कोरोना महामारी को रोकने के लिए चल रहे लॉकडाउन में कई लोगों के एकत्र होकर एक घर में नमाज पढ़ने से मना करने से खफा उपद्रवियों के पुलिसकर्मियों पर हमले के बाद पूरा मोहल्ला छावनी में तब्दील हो गया।

सोशल मीडिया पर बुधवार शाम करीब 6 बजे एक वीडियो वायरल हो गया। वीडियो में कुछ लोग छत पर नमाज पढ़ते हुए नजर आ रहे थे। पुलिस की जांच में पता चला कि वीडियो सेक्टर-16 की जेजे कालोनी का है।

अल्‍लहा की इबादत के लिए नमाज आवश्‍यक है, चाहे यह नमाज घर में अकेले में बैठकर अता की जाए या मस्जिद में जागकर सामुहिक तौर पर।

फिलहाल अभी इस धमाके की ज़िम्मेदारी किसी भी आतंकी संगठन ने नहीं ली है, लेकिन कयास लगाए जा रहे हैं कि तालिबान और इस्लामिक स्टेट ने ही इस धमाके को अंजाम दिया है। जानकारी के अनुसार, इस धमाके के दौरान मस्जिद में 350 लोग थे।

यूपी में नमाज की राजनीति गहराती जा रही है। पार्क में नमाज पढ़ने और न पढ़ने को लेकर चौतरफा बयनबाजियों का सिलसिला जोर पकड़ लिया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर ने कहा कि पूरे प्रदेश में सार्वजनिक पार्कों में अनुमति लिए बिना राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की शाखाएं संचालित हो रही हैं।

मायावती ने पूछा कि उस स्थल पर अगर फरवरी 2013 से ही जुमे की नमाज लगातार हो रही है, तो अब चुनाव के समय उस पाबंदी लगाने क्या मतलब है? यह कार्यवाही पहले ही क्यों नहीं की गयी तथा अब लोकसभा चुनाव से पहले इस प्रकार की कार्रवाई क्यों की जा रही है? इससे बीजेपी सरकार की नीयत व नीति दोनों पर ही उंगली उठना व धार्मिक भेदभाव का आरोप लगना स्वाभाविक है।

इस्लामिक सेंटर आॅफ इंडिया के चेयरमैन एवं ईदगाह लखनऊ के इमाम मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली द्वारा होली त्योहार के मद्देनजर जुमा की नमाज का समय बदलने की देश के मुसलमानों से की गई अपील का देवबंदी उलेमा ने जोरदार समर्थन कि