narendra modi

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को राष्ट्रपति भवन में धर्म चक्र दिवस का उद्घाटन किया। इसके बाद केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने आयोजित धर्म चक्र दिवस समारोह को संबोधित किया।

लद्दाख में पीएम मोदी ने कहा, "विस्तारवाद का युग समाप्त हो गया है। यह विकास का युग है। इतिहास गवाह है कि विस्तारवादी ताकतें या तो हार गई हैं या फिर पीछे हटने को मजबूर हुई हैं।" पीएम मोदी ने कहा है कि हमने सीमा क्षेत्र में बुनियादी ढांचे के विकास पर खर्च को तीन गुना बढ़ा दिया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को अचानक लद्दाख में पहुंच सबको चौंका दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन सटे से सटे क्षेत्रों का दौरा कर दिल्‍ली वापस आएंगे। मिली जानकारी के मुताबिक शुक्रवार शाम को पीएम मोदी प्रधानमंत्री कार्यालय में अहम बैठक कर सकते हैं।

चीन से भारत आने वाले प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) में वित्त वर्ष 2019-20 में भारी गिरावट आई है। लेकिन ध्यान देने वाली बात है कि चीन से भारत में निवेश के कई रास्ते हैं।  

लद्दाख में एलएसी पर भारत और चीन के बीच तनाव चरम पर पहुंच गया है। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बातचीत की है।

कोरोना काल के अपने छठे सम्बोधन में नरेंद्र मोदी की राष्ट्र के नाम सबसे महत्वपूर्ण घोषणा यही मानी जा सकती है कि ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना’ जो पूर्व में कोरोना संकट के पहले तीन महीनों के लिए ही प्रारम्भ की गयी थी उसे अब छठ पूजा के पर्व यानी नवम्बर अंत तक के लिए बढ़ाया जा रहा है।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने 59 चीनी एप्स पर बैन लगाने के केंद्र सरकार के फैसले का स्वागत किया है मगर इसके साथ ही उन्होंने एक बड़ी मांग भी कर डाली है।

देश में जारी कोरोना संकट के बढ़ते मामलों और चीन के साथ चनाव के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को शाम 4 बजे देश की जनता को एक बार फिर संबोधित करेंगे। इस बात की जानकारी प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट के जरिए दी।

शभर में कोरोना महामारी के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। अब इस बीच केंद्रीय गृह मंत्रालय ने अनलॉक-2 की गाइडलाइंस जारी कर दी है। कोरोना वायरस के कंटेनमेंट जोन से बाहर के इलाकों में कई गतिविधियों में छूट मिलेगी।

पूर्वी लद्दाख की घलवान घाटी में भारत और चीन के बीच विवाद तनाव पर है। दोनों देशों के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़क के बाद केंद्र की मोदी सरकार ने चीन के खिलाफ कई सख्त फैसले लिए हैं।