narendra modi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपना 69वां जन्मदिन आ रहे हैं। इस मौके पर उन्हें देशभर से बधाइयां मिल रही हैं। सोशल मीडिया पर पीएम मोदी का बर्थडे ट्रेंड कर रहा है। बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से लेकर तमाम केंद्रीय मंत्री, बीजेपी नेता-कार्यकर्ता और विपक्षी दलों के नेताओं ने पीएम को बधाई दी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आज यानी मंगलवार को 69वां जन्मदिन हैं। देश में पीएम मोदी का जन्मदिन बड़े ही धूमधाम से मनाया जा रहा है। जन्मदिन के मौके पर प्रधानमंत्री अपने गृह राज्य गुजरात में हैं, जहां पर उन्होंने अपनी मां हीरा बा से आशीर्वाद लिया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया के ताकतवर और लोकप्रिय नेताओं में शामिल हैं। पीएम मोदी का मंगलवार यानी 17 सितंबर को 69वां जन्मदिन है। राजनीति, समाजसेवा, लेखन, फोटोग्राफी के अलावा पीएम मोदी फिल्में भी देखते हैं और गाने भी सुनते हैं।

अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए एक बड़े कार्यक्रम का आयोजन होने जा रहा है। इस कार्यक्रम में 50 हजार से ज्यादा लोग शामिल हो सकते हैं। 'हाउडी मोदी' कार्यक्रम का 22 सितंबर को आयोजन होगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 17 सितंबर को अपना जन्मदिन मनाएंगे। पीएम मोदी वैसे तो हर काम दिल खोल कर करते हैं और अपने जीवन को भी लोगों के सामने खुला ही रखते हैं।

उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने आज राजधानी में सेवा सप्ताह का शुभारम्भ किया। इसकी शुरुआत लखनऊ के पार्क रोड स्थित माध्यमिक शिक्षा निदेशालय से की गई। डिप्टी सीएम ने खुद गेट और ऑफिस के अंदर दोनों जगह पर साफ -सफाई से की।

भाजपा के कार्यवाहक अध्यक्ष जे.पी. नड्डा, पार्टी के वरिष्ठ नेता विजय गोयल और विजेंद्र गुप्ता के साथ अमित शाह ने सेवा सप्ताह अभियान के तहत यहां अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में फर्श की सफाई की।

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से पाकिस्तान तिलमिलाया हुआ है। इसके साथ ही भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया है। इस बीच मोदी सरकार में मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि देश का बंटवारा आधुनिक भारत की सबसे बड़ी भूल थी।

प्रज्ञा ठाकुर और नुसरत जहां को संसद में बड़ी जिम्मेदारी मिली है। पहली संसद पहुंची बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर और टीएमसी सांसद नुसरत जहां को स्थायी समितियों का सदस्य बनाया गया है

प्रदेश में 12 प्रतिषत बिजली मूल्य  की बढोत्तरी के रूप में प्रदेष को बेहतरीन गुलदस्ता मिला है जिसका परिणाम यह है कि बिजली मूल्य तो बढ गया परन्तु बिजली कटौती शहरों से लेकर गांव तक शुरू हो गयी।