@narendramodi

वाराणसी के बारे में यह प्रसिद्ध है कि ‘काशी में कोई भूखा नहीं सोता।’ बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी के वासियों ने लाॅकडाउन के दौरान जरूरतमंदों को समय से भोजन उपलब्ध कराने में जिला प्रशासन को भरपूर सहयोग प्रदान किया।

भारत ने चीन को सबक सिखाने के लिए कई दावं-पेंच खेलें। इनमें कई चीनी ऐप बैन कर और चीनी कंपनियों के टेंडर निरस्त कर दिया। साथ ही ये भी बताया कि भारत इस मामले में झुकेगा नहीं। और परिणाम भी यही हुआ कि चीन को मामला आगे बढ़ाने में खुद का कोई फायदा नहीं दिखा और उसे पीछे हटना ही पड़ा।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने सोमवार को कहा कि सरकार यह न भूले कि गुजरात, महाराष्ट्र, दिल्ली, यूपी आदि देश के उन्हीं 7 राज्यों में कोरोना संक्रमण का प्रभाव अधिक है जहां ‘‘नमस्ते ट्रंप’’ का कार्यक्रम कराया गया। उन्होंने सवाल किया कि इन 7-8 राज्यों में ‘‘न्याय योजना’’ को क्यों नहीं लागू किया जा रहा है।

कोरोना वायरस के पूरे विश्व में तेज़ी से फैलने के बाद नरेन्द्र मोदी ने पूरे देश से आत्मनिर्भर बन्ने को कहा था साथ ही आत्मनिर्भर भारत को बढावा देने के लिये भी आगे आने को कहा था। पीएम मोदी ने इस चैलेंज की सूचना ट्वीट करके दी है।

मामले को सुलझाएं वरना जो जनता आज चीन के खिलाफ उठ खड़ी हुई है, वह कल मोदी के खिलाफ उठ खड़ी हो सकती है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के लोग इस समय जिस परेशानी को महसूस कर रहे हैं, क्या मोदी को उसका अंदाज है?

जार्ज के आक्रोशित उद्गार थे : “मुझे लगता है कि इसे किसी गुलाम की औलाद ने लगाया है| कोई सभ्य आदमी ऐसा कतई नहीं करता| किस आधार पर लगा दी है? क्या देश क्या इन लोगों ने खरीदा है ? नेहरू खानदान ! लूटपाट वाला खानदान ?” इसपर रिपोर्टर ने पूछा– “सोनिया की फोटो को क्या हटवाना चाहिए?”

अंशुमान तिवारी लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रविवार यानी 5 अप्रैल को रात में नौ बजे नौ मिनट के लिए अपने घरों की लाइटें बंद कर देने की अपील ने बिजली कंपनियों के सामने एक बड़ी चुनौती खड़ी कर दी है। यह चुनौती है ग्रिड को बचाने की। जानकारों का कहना है कि अगर देशवासी …